National Milk Day 2024 | भारत में राष्ट्रीय दुग्ध दिवस कब और क्यों मनाया जाता है | डॉ वर्गीज कुरियन की जीवनी Verghese Kurien

Editor
0

National Milk Day 2024: भारत में राष्ट्रीय दुग्ध दिवस कब और क्यों मनाया जाता है? डॉ वर्गीज कुरियन की जीवनी Verghese Kurien Ke Bare Me दूध उद्योग कृषि की एक श्रेणी है। यह पशुपालन से जुड़ा एक बहुत ही लोकप्रिय उद्यम है, जिसके तहत दूध उत्पादन, इसकी प्रोसेसिंग और खुदरा बिक्री की जाती है।

इसके लिए गाय, भैंस, बकरी या अन्य प्रकार के पशुओं के विकास का भी कार्य किया जाता है। अधिकांश डेयरी फार्म अपनी गायों के बछड़ों को बेच देते हैं, आमतौर पर मांस उत्पादन के लिए, गैर-दूध उत्पादक पशुओं को पालने के बजाय।

डेयरी फार्मिंग में दुधारू पशुओं का प्रजनन और देखभाल, दूध की खरीद और विभिन्न डेयरी उत्पादों में इसका प्रसंस्करण शामिल है।

भारतीय दुग्ध उत्पादन से संबंधित महत्वपूर्ण सांख्यिकीय आंकड़ों के अनुसार, देश में दूध की आपूर्ति का 70 प्रतिशत छोटे/सीमांत/भूमिहीन किसानों से आता है। भारत की ग्रामीण अर्थव्यवस्था को मजबूत करने में डेयरी-उद्योग की प्रमुख भूमिका है।

इसे देश में सामाजिक-आर्थिक परिवर्तन के एक महत्वपूर्ण घटक के रूप में मान्यता दी गई है। कृषि उत्पाद मवेशियों के लिए भोजन और चारा प्रदान करते हैं जबकि मवेशी से दूध, घी, मक्खन, पनीर, दूध पाउडर, दही, आदि जैसे विभिन्न प्रकार के दूध उत्पादों का उत्पादन करते हैं।

toc
National Milk Day Kab Manaya Jata Hai?
Date राष्ट्रीय दुग्ध दिवस हर साल 26 नवंबर को पूरे देश में मनाया जाता है।
विवरण भारत में श्वेत क्रांति के जनक डॉ वर्गीज कुरियन के जन्मदिन पर 'राष्ट्रीय दुग्ध दिवस' मनाया जाता है।
जन्म वर्गीज कुरियन का जन्म 26 नवंबर 1921 को केरल के कोझीकोड में हुआ था।
निधन डॉ वर्गीज कुरियन का 09 सितंबर 2012 को 90 वर्ष की आयु में निधन हो गया।
National Milk Day Milk Man Verghese Kurien

राष्ट्रीय दुग्ध दिवस कब मनाया जाता है?

पूरी दुनिया में जहां 1 जून को विश्व दुग्ध दिवस मनाया जाता है। जबकि भारत में 26 नवंबर को राष्ट्रीय दुग्ध दिवस मनाया जाता है। राष्ट्रीय दुग्ध दिवस पहली बार 26 नवंबर 2014 को मनाया गया था।

यह दिन भारत में श्वेत क्रांति के जनक माने जाने वाले डॉ वर्गीज कुरियन के सम्मान में मनाया जाता है। डॉ वर्गीज कुरियन का जन्म 26 नवंबर को हुआ था, जिसके कारण इस दिन को राष्ट्रीय दुग्ध दिवस के रूप में मनाया जाता है।

राष्ट्रीय दुग्ध दिवस क्यों मनाया जाता है?

राष्ट्रीय दुग्ध दिवस दूध और दूध उद्योग से संबंधित गतिविधियों को बढ़ावा देने और जीवन के लिए दूध और दूध उत्पादों के महत्व के बारे में लोगों में जागरूकता पैदा करने के लिए मनाया जाता है।

राष्ट्रीय दुग्ध दिवस का इतिहास

वर्ष 2014 में इंडियन डेयरी एसोसिएशन (आईडीए) ने पहली बार इस दिन को मनाने की पहल की थी। पहला राष्ट्रीय दुग्ध दिवस 26 नवंबर 2014 को मनाया गया, जिसमें 22 राज्यों के विभिन्न दूध उत्पादकों ने भाग लिया।

1998 में, भारत संयुक्त राज्य अमेरिका को पछाड़कर दुनिया का सबसे बड़ा दूध उत्पादक बन गया। भारतीय डेयरी संघ (आईडीए) ने वर्ष 2014 में पहली बार इस दिन को मनाने की पहल की थी।

संयुक्त राष्ट्र द्वारा हर साल 01 जून को विश्व दुग्ध दिवस मनाया जाता है। पहला राष्ट्रीय दुग्ध दिवस 26 नवंबर 2014 को मनाया गया था।

डॉ वर्गीज कुरियन की जीवनी

कुरियन का जन्म 26 नवंबर, 1921 को केरल के कोझीकोड में हुआ था। डॉ वर्गीज कुरियन एक प्रसिद्ध भारतीय सामाजिक उद्यमी थे और आज भी दुनिया में 'श्वेत क्रांति के जनक' के रूप में जाने जाते हैं।

डॉ वर्गीज कुरियन को भारत में 'श्वेत क्रांति के जनक' के रूप में जाना जाता है। इस ऑपरेशन ने 1998 में भारत को अमेरिका की तुलना में अधिक प्रगति दी और दूध का सबसे बड़ा उत्पादक देश बना दिया।

डॉ वर्गीज कुरियन के बारे में महत्वपूर्ण तथ्य

वर्गीज कुरियन का जन्म 26 नवंबर 1921 को केरल के कोझीकोड में हुआ था। डॉ वर्गीज कुरियन का 09 सितंबर 2012 को 90 वर्ष की आयु में निधन हो गया।

भारत के मिल्कमैन के नाम से मशहूर डॉ वर्गीज कुरियन ने दूध की कमी को दूर किया और देश को दुनिया का सबसे बड़ा दूध उत्पादक देश बना दिया।

उन्हें 1963 में सामुदायिक नेतृत्व के लिए रेमन मैग्सेसे पुरस्कार और 1989 में विश्व खाद्य पुरस्कार से सम्मानित किया गया था।

उन्हें भारत सरकार द्वारा 1965 में पद्मश्री, 1966 में पद्म भूषण और 1999 में पद्म विभूषण से सम्मानित किया गया था।

उन्होंने 30 संस्थानों की स्थापना की, जो विभिन्न किसानों और कार्यकर्ताओं द्वारा चलाए जा रहे हैं।

डॉ. वर्गीज कुरियन को अमेरिका के "इंटरनेशनल पर्सन ऑफ द ईयर अवार्ड" से भी नवाजा गया।

कुरियन ने अमूल ब्रांड की स्थापना और सफलता में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी।

डॉ. वर्गीज कुरियन को "कार्नेगी वाटलर विश्व शांति पुरस्कार" से सम्मानित किया गया।

डॉ. वर्गीज कुरियन को "कृषि रत्न सम्मान" से भी नवाजा गया।

उन्हें भारत में 'श्वेत क्रांति के जनक' के रूप में भी जाना जाता है।

Post a Comment

0Comments

Post a Comment (0)

#buttons=(Accept !) #days=(31)

Our website uses cookies to enhance your experience. Learn More
Accept !