Indian Air Force Day 2024 भारतीय वायु सेना दिवस कब, क्यों, कैसे मनाया जाता है? इतिहास, महत्वपूर्ण कार्य

Editor
0

मिनटों में बड़े से बड़े दुश्मन को भी मार गिराने की ताकत रखने वाली भारतीय वायु सेना आज दुनिया की शीर्ष वायु सेना में से एक है। भारतीय वायु सेना की नींव 8 अक्टूबर 1932 को रखी गई थी। आजादी से पहले इसे रॉयल इंडियन एयर फोर्स कहा जाता था।

भारतीय वायु सेना दिवस 2021 की थीम 'Touch the Sky with Glory' है। पिछले वर्ष की थीम "the untiring efforts and supreme sacrifices of its personnel" थी। और वर्ष 2019 "know your Air Force" की थीम थी।

toc
Indian Air Force Kab Manya jata hai
Date Every year 8 अक्टूबर
स्थापना भारत में वायु सेना की स्थापना के उपलक्ष्य में मनाया जाता है। 8 अक्टूबर 1932 को शुरू किया गया था।
राष्ट्रपति भारत का राष्ट्रपति वायु सेना के कमांडर-इन-चीफ के रूप में शामिल होता है।
Indian Air Force Day

भारतीय वायु सेना दिवस कब मनाया जाता है?

हर साल 8 अक्टूबर को "वायु सेना दिवस" मनाया जाता है। इस दिन भारतीय लड़ाकू विमान और हेलीकॉप्टर अपने कारनामे दिखाते हैं। वायु शक्ति प्रदर्शन। देश के सभी एयरपोर्ट पर परेड निकाली जाती है।

भारतीय वायु सेना दिवस क्यों मनाया जाता है?

"भारतीय वायु सेना दिवस" भारत में वायु सेना की स्थापना के उपलक्ष्य में मनाया जाता है। भारतीय वायु सेना, सेना और नौसेना तीनों रक्षा सेवाओं के प्रमुख भारतीय वायु सेना दिवस समारोह में भाग लेते हैं। भारतीय वायु सेना के बारे में जागरूकता बढ़ाने के लिए इस दिन का उत्सव आधिकारिक तौर पर 8 अक्टूबर 1932 को शुरू किया गया था।

भारतीय वायु सेना दिवस का इतिहास

वर्ष 1932 में अपनी स्थापना के बाद से भारतीय वायु सेना की उपलब्धियों का एक उल्लेखनीय इतिहास रहा है। भारतीय वायु सेना पाकिस्तान के साथ चार युद्ध और चीन के साथ एक युद्ध में शामिल रही है। वायु सेना ने भी बर्मा में जापानी सेना को रोककर द्वितीय विश्व युद्ध में सक्रिय भूमिका निभाई। यह भारतीय क्षेत्रों को सभी जोखिमों से बचाने और प्राकृतिक आपदाओं के दौरान बाढ़ जैसे आपदा प्रभावित क्षेत्रों को सहायता प्रदान करता है।

वायु सेना के अन्य महत्वपूर्ण कार्य

भारतीय वायु सेना IAF कई युद्धों में शामिल रही है: द्वितीय विश्व युद्ध, चीन-भारतीय युद्ध, ऑपरेशन कैक्टस, ऑपरेशन विजय, कारगिल युद्ध, भारत-पाकिस्तान युद्ध, कांगो संकट, ऑपरेशन पूमलाई, ऑपरेशन पवन।

ऑपरेशन विजय (गोवा पर दावा करने के लिए)
ऑपरेशन मेघदूत (विवादित कश्मीर क्षेत्र में सियाचिन ग्लेशियर पर कब्जा करने के लिए)
ऑपरेशन कैक्टस (मालदीव में बचाव अभियान)
ऑपरेशन पोमलाई (श्रीलंका में घिरे जाफना शहर पर एयर ड्रॉप आपूर्ति के लिए)
ऑपरेशन राहत (उत्तराखंड में अचानक आई बाढ़ से प्रभावित लोगों का बचाव और राहत)।

भारतीय वायु सेना दिवस कैसे मनाया जाता है?

यह दिन देश भर के विभिन्न हवाई अड्डों पर उत्साह और गर्व के साथ मनाया जाता है। कई राज्यों की सभी वायु सेनाएं अपने-अपने हवाई अड्डों पर परेड करती हैं। वायु सेना दिवस की शुरुआत परेड से होती है। परेड सभी वायु सेना स्टेशनों पर आयोजित की जाती है।

अपनी पूरी पोशाक में बैंड की धुन पर एक सीधी रेखा में परेड की जाती है। जवान इस तरह से चलते हैं कि देखते ही हर कोई मंत्रमुग्ध हो जाता है। परेड ग्राउंड पर एक बार परेड जुलूस निकलने के बाद, सभी वर्दीधारी और उपस्थित लोगों के सम्मान में परेड को सलामी देते हैं। भारत का राष्ट्रपति वायु सेना के कमांडर-इन-चीफ के रूप में शामिल होता है।

भारतीय वायु सेना की ताकत


भारतीय वायु सेना पूरी दुनिया में चौथी सबसे बड़ी है
वायुसेना के पास करीब 1350 लड़ाकू विमान और करीब 170000 सैनिक हैं।
देश के हर हिस्से में वायुसेना के अड्डे हैं
सियाचिन ग्लेशियर पर करीब 22000 फीट की ऊंचाई पर एयरफोर्स स्टेशन भी है।
वायु सेना के देश के बाहर भी बेस स्टेशन हैं।

Post a Comment

0Comments

Post a Comment (0)

#buttons=(Accept !) #days=(31)

Our website uses cookies to enhance your experience. Learn More
Accept !