Nag Panchami Festival हिंदी में, नाग पंचमी या भैया पंचमी महत्व, कहानी, व्रत, पूजा विधि, कब है, क्यों मनाया जाता है

Nag Panchami 2022, व्रत, कथा पूजा विधि, महतव हिंदी में, नाग पंचमी का पर्व नागों का पर्व है। भारत, नेपाल और अन्य देशों में जहां हिंदू धर्म के अनुयायी रहते हैं, वे सभी पारंपरिक रूप से इस दिन नाग देवता की पूजा करते हैं, और परिवार के कल्याण के लिए उनका आशीर्वाद मांगा जाता है। इसके पीछे कुछ पौराणिक कथाएं भी छिपी हुई हैं। यहां नाग पंचमी के महत्व, पौराणिक कथाओं और व्रत की विधि के बारे में सभी जानकारी एकत्र की गई है, जिसे पढ़कर आप नाग पंचमी के बारे में जानकरी कर सकते हैं।

{tocify} $title={Table of Contents}
Nag Panchami Festival Kab Hai?
Date Tuesday, 2 August Naga Panchami 2022 को
मेला नाग पंचमी का मेला वाराणसी के छोटे से राज्य में लगता है।
महत्व सभी जीवों का सम्मान किया जाना चाहिए क्योंकि प्रकृति के संतुलन के लिए सभी जिम्मेदार हैं।
Nag Panchami क्यों मनाया जाता है

नाग पंचमी कब मनाई जाती है

हम हर साल सभी त्योहार अंग्रेजी कैलेंडर के अनुसार मनाते हैं लेकिन हमारे हिंदी कैलेंडर में अंग्रेजी कैलेंडर की तुलना में अधिक त्योहार हैं। इन्हीं में से एक है नाग पंचमी का पर्व जो सावन के महीने में आता है। जो सावन मास के शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि को मनाया जाता है। इस दिन नाग देवता की पूजा करना और उन्हें स्नान कराना बहुत महत्वपूर्ण और लाभकारी माना जाता है।

नाग पंचमी एक ऐसा त्योहार है जिस पर अलग-अलग राज्यों में अलग-अलग तरीकों से नागों की पूजा की जाती है। सावन के महीने के बारे में तो आपने बहुत सुना होगा सावन के महीने में आने वाली कृष्ण पक्ष की पंचमी तिथि को नाग पंचमी के नाम से जाना जाता है और इस दिन को नाग पंचमी के रूप में मनाया जाता है.

नाग पंचमी तिथि 2022 में यानी इस साल Tuesday, 2 August Naga Panchami दिन मनाई जाएगी.

रिवाज के अनुसार इस दिन सांप को दूध दिया जाता है। (लेकिन दोस्तों सांप दूध नहीं पिता है, यह सिर्फ एक धारणा है।) नाग पंचमी एक ऐसा त्योहार है, सांपों को दूध पिलाना नहीं, बल्कि उन्हें दूध से नहलाना बहुत पवित्र माना जाता है। गांव में नाग पंचमी के दिन मेले को सजाया जाता है जिसमें झूले बनाए जाते हैं। कई जगहों पर विवाहित बेटियों को नाग पंचमी के दिन मायके बुलाया जाता है। उनके परिवार को भोजन कराया जाता है और दान किया जाता है। इसके साथ ही खेत के मालिक अन्य जानवरों जैसे बैल, गाय, भैंस आदि की भी पूजा करते हैं।

नाग पंचमी मेला

इस त्योहार को मनाने के लिए हर साल वाराणसी के काशी में एक जगह विशाल मेला लगता है। उस जगह का नाम नाग कुआं है। सावन मास के कृष्ण पक्ष की पंचमी तिथि को नागपंचमी नामक इस मेले में दूर-दूर से लोग आते हैं। ऐसी मान्यता है कि यदि यहां सभी देवताओं को देख लिया जाए तो उस व्यक्ति की कुंडली से सभी सर्प दोष दूर हो जाते हैं। नाग पंचमी के दिन अलग-अलग गांवों और कस्बों में भी तरह-तरह के खेलों का आयोजन किया जाता है।

नाग पंचमी पूजा विधि

नाग पंचमी की पूजा के नियम सबके लिए अलग-अलग हैं, कई तरह की मान्यताएं हैं।

नाग पंचमी व्रत का महत्व

यह नागपंचमी त्योहार हमें बताता है कि हमारे देश में सभी जीवों का सम्मान किया जाना चाहिए क्योंकि प्रकृति के संतुलन के लिए सभी जिम्मेदार हैं। किसी की कमी से यह संतुलन गड़बड़ा जाता है।

नाग पंचमी पर पौराणिक कथा

नाग पंचमी को क्यों कहा जाता है भैया पंचमी:- नगर का एक सेठ था, उसके चार पुत्र थे। सबकी शादी हो चुकी थी। तीन पुत्रों की पत्नियां बहुत समृद्ध थीं। उसके पास पैसों की कोई कमी नहीं थी, लेकिन चौथे के परिवार में कोई नहीं था। बाकी तीनों बहुएं अपने घरों से ढेर सारे तोहफे लाती थीं और छोटी बहू को ताना मारती थीं। लेकिन छोटी बहू स्वभाव से बहुत अच्छी थी, इन बातों का उन पर कोई असर नहीं हुआ।

एक दिन बड़ी बहू को खेत में साथ जाने और कुछ पौधे लगाने को कहा गया। सब एक साथ गए और जैसे ही बड़ी बहू ने घेरा खोदने के लिए कोशिश की। तभी वहां एक सांप आया, उसे मारने की सोची, लेकिन छोटी बहू ने उसे रोक लिया और कहा- दीदी, यह एक आवाजहीन जानवर है, इसे मत मारो। तब जाकर सांप की जान बच गई। कुछ समय बाद छोटी बहू के पास वही सांप दिखाई दिया और उसने उससे कहा कि तुमने मेरी जान बचाई, इसलिए तुम जो चाहो मांग सकते हो, तो छोटी बहू ने सांप को अपना भाई होने के लिए कहा।

सांप ने छोटी बहू को अपनी बहन मान लिया। कुछ दिनों बाद सभी बहुएं अपने-अपने घर चली गईं और वापस आकर छोटी बहू को ताने मारने लगीं। तब छोटी बहू को उस भाई का ख्याल आया और उसके मन में सांप को यद् किया। एक दिन सांप मानव रूप में छोटी बहू के घर आया और सभी को आश्वस्त किया कि वह छोटी बहू का दूर का भाई है, और उसे अपने साथ अपने मायके ले जाने आया। घरवालों ने उसे जाने दिया। रास्ते में सांप ने अपना परिचय छोटी बहू से कराया और गर्व से अपने घर ले गया।

जहां बहुत पैसा था। सांप ने अपनी बहन के घर बहुत सारे पैसे और गहने भेजे। यह देख बड़ी बहू जल गई और छोटी बहू के पति को उकसाया और कहा कि छोटी बहू चरित्रहीन है। इस पर पति ने छोटी बहू को घर से बाहर निकालने का फैसला किया। तब छोटी बहू को अपने भाई सर्प की याद आई। उसी समय सांप उसके घर आया और उसने सभी से कहा कि अगर कोई मेरी बहन पर आरोप लगाएगा तो वह सबको काटेगा। इससे हकीकत सामने आई और इस तरह भाई ने अपना फर्ज निभाया। तभी से सावन की शुक्ल पंचमी के दिन नाग की पूजा की जाती है।

Editor

नमस्कार!🙏 मेरा नाम सरोज कुमार (वर्मा) है। और मुझे यात्रा करना, दूसरी जगह की संस्कृति को जानना पसंद है। इसके साथ ही मुझे ब्लॉग लिखना, और उस जानकारी को ब्लॉग के माध्यम से दूसरों के साथ साझा करना भी पसंद है।

एक टिप्पणी भेजें

और नया पुराने

अगर आपने इस लेख को पूरा पढ़ा है, तो आपका बहुत-बहुत धन्यवाद!

यदि आपको इस लेख के बारे में कोई संदेह है या आप चाहते हैं कि इसमें सुधार किया जाए, तो आप इसके लिए टिप्पणी लिख सकते हैं।

इस ब्लॉग का उद्देश्य आपको अच्छी जानकारी देना है, और उसके लिए मुझे स्वयं उस जानकारी की वास्तविकता की जाँच करनी होती है। फिर वह जानकारी इस ब्लॉग पर प्रकाशित की जाती है।

आप इसे यहां नहीं पाएंगे। उदाहरण के लिए-

  • 🛑कंटेंट के बीच में गलत कीवर्ड्स का इस्तेमाल।
  • 🛑एक ही बात को बार-बार लिखना।
  • 🛑सामग्री कम लेकिन डींगे अधिक।
  • 🛑पॉपअप के साथ उपयोगकर्ता को परेशान करना।

अगर आपको यह पोस्ट पसंद आया हो या कुछ सीखने को मिला हो तो कृपया इस पोस्ट को सोशल मीडिया फेसबुक, ट्विटर पर शेयर करें। लेख को अंत तक पढ़ने के लिए एक बार फिर से दिल से धन्यवाद!🙏