Mothers Day 2022| मई में ही क्यों मनाते हैं मदर्स डे, जानिए इसका कारण और महत्व

भारत में हर साल मई के दूसरे रविवार को मदर्स डे मनाया जाता है। यह दिन माताओं के प्यार और बलिदान के प्रति सम्मान व्यक्त करने का दिन है। दुनिया के अलग-अलग देशों में अलग-अलग दिनों में मदर्स डे मनाया जाता है। मां के बिना हम इस दुनिया में कुछ भी नहीं हैं क्योंकि मां ही हम सभी को जन्म देती है। माँ का स्थान निश्चय ही हम सभी के जीवन में सबसे महत्वपूर्ण और विशेष स्थान है।

मदर्स डे मां के सम्मान में मनाया जाता है। हमारे भारतीय समाज में मां को भगवान के समान दर्जा दिया जाता है, अगर कोई भगवान के बाद बोलता है तो मां की ही पूजा की जाती है।

Mothers Day 2022

वैसे मां की कुर्बानी शब्दों में अपने प्यार का इजहार करके या किसी एक दिन को खास बनाकर नहीं की जा सकती. मदर्स डे को हर रोज मनाया जाना चाहिए, ताकि हम अपनी मां को दिल से समझ सकें और उन्हें वो सम्मान दे सकें, जिसकी वो हक़दार हैं।

जिनके पास मां नहीं होती वो अपनी कमी को बखूबी समझ सकते हैं। माँ वो है जो हमें जीना सिखाती है, दुनिया की पहली शख्सियत जिसे हम सिर्फ स्पर्श से जानते हैं, वो है माँ।

9 महीने तक अपने पेट में रखने के बाद, वह इन सभी परेशानियों के बाद हमें जन्म देती है। एक मां के लिए उसकी पूरी दुनिया उसके बच्चे होते हैं। आप छोटे हो या बड़े मां को हर वक्त अपने बच्चे की चिंता रहती है।

माँ वो है जो, जीवन का वह पाठ जो एक माँ स्कूल जाने से पहले घर पर सिखाती है। जो गिरकर उठना सिखाती है। जब परिणाम आता है तो जो हमसे ज्यादा खुश मां होती है। देर रात घर आने पर मां ही हमारा इंतजार करती है। पिता से गलतियों में बचाने वाली मां ही होती है। हमें मुसीबत में देखकर बिना बोले ही समझ जाने वाली मां है। मां को परिभाषित करने के लिए शब्द कम है दोस्तों.

मदर्स डे क्यों मनाया जाता है?

उल्लेखनीय है कि पहली बार मदर्स डे मनाने की शुरुआत अमेरिका में हुई थी। 9 मई, 1914 को अमेरिकी राष्ट्रपति वुडरो विल्सन ने एक कानून पारित किया और इस कानून के अनुसार हर साल मई के हर दूसरे रविवार को मदर्स डे मनाया जाता था। इसके बाद ही अमेरिका, भारत समेत कई अन्य देशों में मदर्स डे मनाया जाने लगा।

अमेरिका में ऐना जार्विस नाम की एक सामाजिक कार्यकर्ता थी और वह अपनी माँ से बहुत प्यार करती थी, यही कारण था कि उसने कभी शादी नहीं की और किसी बच्चे की परवरिश नहीं की। ऐना जार्विस ने अपनी मां की मृत्यु के बाद प्यार का इजहार करने के लिए मई के दूसरे रविवार को मदर्स डे के रूप में मनाना शुरू कर दिया।

जार्विस के प्रयासों से यह दिन पूरी दुनिया में लोकप्रिय हो गया और आज इसे दुनिया के अधिकांश देशों में धूमधाम से मनाया जाता है। लाखों लोग इस दिन को एक अवसर के रूप में मनाते हैं और अपनी मां को उनके बलिदान, समर्थन, प्रयास के लिए दिल से धन्यवाद देते हैं।

भारत में मातृ दिवस समारोह-

मई महीने के दूसरे रविवार को मदर्स डे मनाया जाता है। सोशल नेटवर्किंग साइट के कारण आज का दिन काफी लोकप्रिय हो गया है, और सभी की जानकारी में आने लगा है। आजकल सभी गांवों, कस्बों और शहरों के लोग इसे जानते हैं और अपनी मां को बधाई देकर मनाते हैं।

इंटरनेट, सोशल साइट्स पर मदर्स डे के लिए कई संदेश उपलब्ध हैं, जिन्हें हर कोई अपनी मां को भेजकर शुभकामनाएं देता है। दूसरे देशों की तरह भारत में भी लोग इस दिन अपनी मां को विश करते हैं, उनके साथ अपनी पुरानी तस्वीरें शेयर करते हुए शुक्रिया कहते हैं.

जो अपनी मां के साथ रहते हैं, उनके साथ समय बिताते हैं, वे उन्हें सैर पर ले जाते हैं। इसे हर कोई अपने-अपने तरीके से सेलिब्रेट करता है। जो लोग अपनी मां से दूर होते हैं वे अपनी मां को फोन पर विश करते हैं, उपहार भेजते हैं।

मातृ दिवस उपहार विचार-

मदर्स डे की शुरुआत करने वाली ऐना जार्विस कभी नहीं चाहती थीं कि लोग इस मार्मिक दिन को अपनी कमाई का जरिया बनाएं, लेकिन उनकी कोशिशों के बावजूद ऐसा नहीं हो सका. आजकल हर दिन के लिए अलग-अलग गिफ्ट कार्ड है, जिसे लोग खरीदते हैं जिसका फायदा कंपनियों जाता है।

वैसे यह अपनी भावनाओं को साझा करने का एक तरीका है, कुछ लोग बोलकर करते हैं और कुछ लोग कुछ देकर करते हैं। आइए आपको बताते हैं कुछ ऐसे तरीके जिनसे आप इस खास दिन पर अपनी मां को स्पेशल फील करा सकते हैं।

अगर आप अपनी मां के साथ रहते हैं तो उन्हें इसके अलावा आप अपने हाथों से कोई कार्ड या कोई गिफ्ट बना सकते हैं। इस दिन उन्हें पूरा आराम दें, किचन के कामों से ब्रेक दें। अपनी मां के लिए अपनी पसंद का कुछ बनाएं। मां को नई साड़ी गिफ्ट करें।

इस मदर्स डे पर अपनी मां के साथ कुछ खास प्लान करें, ताकि वह इस दिन को जिंदगी भर याद रखें। माँ को धन्यवाद देने का इससे अच्छा अवसर कोई नहीं हो सकता।

मदर्स डे का महत्व: मदर्स डे एक खूबसूरत दिन है, जिसे दुनिया भर में सभी माताओं के सम्मान में मनाया जाता है। हालांकि इस दिन को मदर्स डे के रूप में जाना जाता है, लेकिन इस दिन के माध्यम से हम अपनी माताओं के प्रति अपने प्यार और सम्मान का इजहार करते हैं और उन्हें उपहार दे सकते हैं।

Editor

नमस्कार!🙏 मेरा नाम सरोज कुमार (वर्मा) है। और मुझे यात्रा करना, दूसरी जगह की संस्कृति को जानना पसंद है। इसके साथ ही मुझे ब्लॉग लिखना, और उस जानकारी को ब्लॉग के माध्यम से दूसरों के साथ साझा करना भी पसंद है।

एक टिप्पणी भेजें

और नया पुराने

अगर आपने इस लेख को पूरा पढ़ा है, तो आपका बहुत-बहुत धन्यवाद!

यदि आपको इस लेख के बारे में कोई संदेह है या आप चाहते हैं कि इसमें सुधार किया जाए, तो आप इसके लिए टिप्पणी लिख सकते हैं।

इस ब्लॉग का उद्देश्य आपको अच्छी जानकारी देना है, और उसके लिए मुझे स्वयं उस जानकारी की वास्तविकता की जाँच करनी होती है। फिर वह जानकारी इस ब्लॉग पर प्रकाशित की जाती है।

आप इसे यहां नहीं पाएंगे। उदाहरण के लिए-

  • 🛑कंटेंट के बीच में गलत कीवर्ड्स का इस्तेमाल।
  • 🛑एक ही बात को बार-बार लिखना।
  • 🛑सामग्री कम लेकिन डींगे अधिक।
  • 🛑पॉपअप के साथ उपयोगकर्ता को परेशान करना।

अगर आपको यह पोस्ट पसंद आया हो या कुछ सीखने को मिला हो तो कृपया इस पोस्ट को सोशल मीडिया फेसबुक, ट्विटर पर शेयर करें। लेख को अंत तक पढ़ने के लिए एक बार फिर से दिल से धन्यवाद!🙏