रामनवमी क्यों मनाया जाता है | Ram Navami 2022 राम जी की मृत्यु कैसे हुई?

राम नवमी पूजा चैत्र मास के शुक्ल पक्ष की नवमी को राम नवमी का पर्व मनाया जाता है। हिंदू शास्त्रों के अनुसार इसी दिन मर्यादा-पुरुषोत्तम भगवान श्री राम का जन्म हुआ था।

इस पर्व के साथ ही मां दुर्गा के नवरात्र भी समाप्त हो जाते हैं। हिंदू धर्म में रामनवमी के दिन पूजा की जाती है। रामनवमी की पूजा में सबसे पहले देवताओं को जल, रोली और लेपन चढ़ाया जाता है, उसके बाद मुट्ठी भर चावल मूर्तियों को चढ़ाया जाता है। पूजा के बाद आरती की जाती है। कुछ लोग इस दिन व्रत भी रखते हैं।

Ram Navami Kab Hai?
Date 10 April, 2022 (रामनवमी)
विवरण राम नवमी का त्यौहार भगवान विष्णु के सातवें अवतार भगवान राम के जन्म दिवस के रूप में मनाया जाता है।
Ram Navami 2022

राम नवमी का महत्व

यह त्योहार भारत में श्रद्धा और आस्था के साथ मनाया जाता है। रामनवमी के दिन चैत्र नवरात्र भी समाप्त होते हैं। हिंदू शास्त्रों के अनुसार इसी दिन भगवान श्री राम जी का जन्म हुआ था, इसलिए भक्त इस शुभ तिथि को रामनवमी के रूप में मनाते हैं और पवित्र नदियों में स्नान करते हैं।

रामनवमी क्यों मनाया जाता है

हिंदू धर्म शास्त्रों के अनुसार त्रेतायुग में रावण के अत्याचारों को समाप्त करने और धर्म की पुन: स्थापना करने के लिए भगवान विष्णु ने मृत्युलोक में श्री राम के रूप में अवतार लिया था। श्री रामचन्द्र जी का जन्म चैत्र शुक्ल की नवमी तिथि को पुनर्वसु नक्षत्र में रानी कौशल्या के गर्भ से और कर्क लग्न के राजा दशरथ के घर में हुआ था। राम नवमी का त्योहार भगवान विष्णु के सातवें अवतार भगवान राम के जन्मदिन के रूप में मनाया जाता है।

राम नवमी का इतिहास

रामनवमी का त्योहार हर साल मार्च-अप्रैल के महीने में मनाया जाता है। लेकिन रामनवमी का पर्व पिछले कई हजार वर्षों से मनाया जा रहा है। राम नवमी का त्योहार भगवान विष्णु के सातवें अवतार भगवान राम के जन्मदिन के रूप में मनाया जाता है।

महाकाव्य रामायण के अनुसार अयोध्या के राजा दशरथ की तीन पत्नियां थीं, लेकिन लंबे समय तक कोई भी राजा दशरथ को संतान का सुख नहीं दे सका। जिससे राजा दशरथ काफी परेशान रहते थे। पुत्र प्राप्त करने के लिए, राजा दशरथ को ऋषि वशिष्ठ द्वारा पुत्रकामेष्टी यज्ञ करने का विचार दिया गया था।

इसके बाद राजा दशरथ ने अपने जमाई महर्षि ऋष्यश्रृंग के साथ यज्ञ किया। तत्पश्चात एक दिव्य पुरुष हाथ में खीर का कटोरा लेकर यज्ञकुंड से बाहर आया। यज्ञ की समाप्ति के बाद महर्षि ऋष्यश्रृंग ने दशरथ की तीनों पत्नियों को खाने के लिए खीर का कटोरा दिया। खीर खाने के कुछ महीने बाद तीनों रानियां गर्भवती हो गईं।

ठीक 9 महीने बाद, राजा दशरथ की सबसे बड़ी रानी कौशल्या ने भगवान विष्णु के सातवें अवतार राम, भरत को कैकेयी और जुड़वां बच्चों लक्ष्मण और शत्रुघ्न को माता सुमित्रा ने जन्म दिया। भगवान राम का जन्म पृथ्वी पर दुष्ट प्राणियों का संहार करने के लिए हुआ था।

श्री राम का जन्म कब और कहाँ हुआ था?

राम भगवान विष्णु के अवतार हैं, और उन्हें श्री राम और श्री रामचंद्र के नाम से भी जाना जाता है। रामायण में वर्णन के अनुसार, अयोध्या के सूर्यवंशी राजा, चक्रवर्ती सम्राट दशरथ ने पुत्रेष्टि यज्ञ (पुत्र प्राप्ति यज्ञ) किया था, जिसके परिणामस्वरूप उनके पुत्रों का जन्म हुआ था। श्री राम का जन्म अयोध्या में देवी कौशल्या के गर्भ से हुआ था।

राम को भगवान क्यों कहा जाता है?

मर्यादा पुरुषोत्तम प्रभु श्री राम भगवान विष्णु के सातवें अवतार हैं, जिन्होंने त्रेता युग में रावण को मारने के लिए पृथ्वी पर अवतार लिया था। राम को मर्यादा पुरुषोत्तम कहा जाता है क्योंकि उन्होंने जीवन में कहीं भी गरिमा का उल्लंघन नहीं किया।

राम जी की मृत्यु कैसे हुई?

भगवान श्री राम का जन्म त्रेता युग में हुआ था। एक अनुमान के अनुसार उनका जन्म 5114 ईसा पूर्व माना जाता है। कहते हैं जिसने धरती पर जन्म लिया है उसकी मृत्यु निश्चित है, भगवान श्री राम ने भी धरती पर मनुष्य के रूप में अवतार लिया था। कई जगहों पर राम की मृत्यु या बैकुंठ धाम जाने का अलग-अलग वर्णन मिलता है।

जल समाधि से- उन्होंने सरयू नदी के अंदर जाकर भगवान विष्णु का अवतार लिया। इस तरह श्री राम मानव शरीर को छोड़कर बैकुंठ धाम चले गए।

Editor

नमस्कार!🙏 मेरा नाम सरोज कुमार (वर्मा) है। और मुझे यात्रा करना, दूसरी जगह की संस्कृति को जानना पसंद है। इसके साथ ही मुझे ब्लॉग लिखना, और उस जानकारी को ब्लॉग के माध्यम से दूसरों के साथ साझा करना भी पसंद है।

एक टिप्पणी भेजें

और नया पुराने

अगर आपने इस लेख को पूरा पढ़ा है, तो आपका बहुत-बहुत धन्यवाद!

यदि आपको इस लेख के बारे में कोई संदेह है या आप चाहते हैं कि इसमें सुधार किया जाए, तो आप इसके लिए टिप्पणी लिख सकते हैं।

इस ब्लॉग का उद्देश्य आपको अच्छी जानकारी देना है, और उसके लिए मुझे स्वयं उस जानकारी की वास्तविकता की जाँच करनी होती है। फिर वह जानकारी इस ब्लॉग पर प्रकाशित की जाती है।

आप इसे यहां नहीं पाएंगे। उदाहरण के लिए-

  • 🛑कंटेंट के बीच में गलत कीवर्ड्स का इस्तेमाल।
  • 🛑एक ही बात को बार-बार लिखना।
  • 🛑सामग्री कम लेकिन डींगे अधिक।
  • 🛑पॉपअप के साथ उपयोगकर्ता को परेशान करना।

अगर आपको यह पोस्ट पसंद आया हो या कुछ सीखने को मिला हो तो कृपया इस पोस्ट को सोशल मीडिया फेसबुक, ट्विटर पर शेयर करें। लेख को अंत तक पढ़ने के लिए एक बार फिर से दिल से धन्यवाद!🙏