Holika Dahan होलिका दहन क्यों किया जाता है? | होलिका को अग्नि में बैठने की कहानी। शुरुआत, अर्थ क्या है?

होली के पहले दिन को Holika Dahan 'होलिका दहन' या छोटी होली के रूप में जाना जाता है। होलिका दहन के दिन, लोग अपने दोस्तों और रिश्तेदारों को एक अलाव के चारों ओर इकट्ठा करते हैं और विभिन्न गाने और कविताएं गाकर होलिका दहन मनाते हैं।

होलिका दहन बुराई पर जीत का प्रतीक है।

आप सभी ने प्रह्लाद और हिरण्यकश्यपु की हिंदू पौराणिक कथाओं को सुना होगा कि हिरण्यकश्यप की बहन होलिका ने भगवान विष्णु के भक्त प्रह्लाद को फाल्गुन पूर्णिमा के दिन मारने की कोशिश की थी. भगवान श्रीहरि विष्णु की कृपा से प्रह्लाद बच गया और होलिका आग में जलकर मर गई।

2022 Me Holika Dahan Kab Hai?
Festival Ka Naam Holika Dahan
Date 17 March, 2022 (Thursday)
विवरण हिरण्यकश्यप की बहन होलिका ने भगवान विष्णु के भक्त प्रह्लाद को फाल्गुन पूर्णिमा के दिन मारने की कोशिश की थी.
Holika Dahan ki image

Holika Dahan का इतिहास।

दहन का इतिहास होलिका दहन में सबसे प्रसिद्ध प्रह्लाद के बारे में है, जो हिरण्यकश्यप नामक एक राक्षस का पुत्र था। हिरण्यकश्यप अपने पुत्र प्रह्लाद की भगवान विष्णु के प्रति आस्था के खिलाफ था और उसने अपनी बहन होलिका से अपने ही पुत्र को मारने के लिए मदद मांगी।

हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार, होलिका को आग से बचाने के लिए भगवान ब्रह्मा द्वारा उपहार में दिया गया एक दिव्य शाल था। इसे पहनकर वह प्रह्लाद के साथ अग्नि में बैठ गई लेकिन प्रह्लाद की जगह होलिका जल गई। इसलिए इस दिन को होलिका दहन के रूप में जाना जाता है।

होलिका राक्षस वंश के राजा हिरण्यकश्यप की बहन थी। वह अग्निदेव के उपासक थे। उन्होंने अग्निदेव से वरदान में ऐसा वस्त्र प्राप्त किया, जिसे पहनने के बाद अग्नि उन्हें जला नहीं सकती थी। बस इसी कारण से हिरण्यकश्यप ने उसे अपने पुत्र प्रह्लाद यानी होलिका के भतीजे के साथ हवन कुंड में बैठने का आदेश दिया।

अपने भाई के इस आदेश का पालन करने के लिए, प्रह्लाद को अपनी गोद में लिया और अग्नि कुंड में बैठ गए। इसके बाद, भगवान की कृपा से, इतनी तेज हवा चली कि होलिका के शरीर से कपड़े उड़ गए और भक्त प्रह्लाद के शरीर पर गिर गया। प्रह्लाद इससे बच गए लेकिन होलिका जलकर मर गई।

होलिका को अग्नि में बैठने की कहानी।

किंवदंती के अनुसार, होलिका को इलोजी नामक एक राजकुमार से प्यार था। दोनों ने शादी की योजना भी बनाई थी। फाल्गुन पूर्णिमा के दिन, इलोजी बरात के साथ होलिका से शादी करने के लिए आने वाले थे।

लेकिन उसी दिन हिरण्यकश्यप ने होलिका को अपनी गोद में प्रहलाद के साथ अग्निकुंड पर बैठने का आदेश दिया। जब होलिका इस क्रूर कृत्य के लिए तैयार नहीं थी, तो हिरण्यकश्यप ने होलिका को यह भय दिखाया कि यदि उसने आदेश का पालन नहीं किया, तो वह इलोजी का विवाह नहीं होने देगा और इलोजी को दंडित करने की अनुमति देगा।

अपने प्यार को बचाने के लिए, होलिका आदेश का पालन करती है और प्रह्लाद के साथ अग्निकुंड पर बैठ जाती है। और प्रह्लाद को जलाने के प्रयास में होलिका स्वयं जलकर मर गई। जब तक इलोजी बारात लेकर पहुंचे तब तक होलिका की मौत हो चुकी थी।

इलोजी यह सब सहन नहीं कर सका और वह भी हवन में कूद गया। तब तक आग बुझ चुकी थी। अपना संतुलन खोते हुए, वे लोगों पर राख और लकड़ी फेंकने लगे। उन्होंने पागलपन के हालत में अपना जीवन वयतीत किये। हिमाचल प्रदेश के लोग होलिका-इलोजी की प्रेम कहानी को आज भी याद करते हैं।

होली रंगों का त्योहार है। यह सर्दियों के मौसम के बाद आता है। इसे रंग पंचमी के नाम से भी जाना जाता है। यह फाल्गुन के महीने में पूर्णिमा के दिन उत्सुकता और खुशी के साथ मनाया जाता है, जो ग्रेगोरियन कैलेंडर के अनुसार मार्च का महीना है। होली के त्योहार में लोग एक दूसरे के ऊपर रंग बिरंगे रंग बिखेरते हैं।

होलिका दहन होली की पूर्व संध्या पर किया जाता है। होलिका दहन पर एक अलाव जलाया जाता है जो बुरी आत्माओं को जलाने का प्रतीक है। होलिका दहन के इस अवसर पर, लोग आग जलाकर उसके करीब जाते हैं और परिक्रमा करते हैं। इस आग में लोग घरों से गोबर (उपला, गोइठा) लाते हैं। वहीं, महिलाएं घर और बच्चों में समृद्धि, सुख और शांति के लिए होलिका की पूजा करती हैं।

होली की आग और राख को घर में लाने से घर से नकारात्मक शक्तियां दूर होती हैं। ग्रामीण क्षेत्रों में, होलिका दहन के दौरान, किसान अपनी फसल के नए अनाज अग्नि में पकाते हैं। ऐसा माना जाता है कि होलिका की अग्नि में पकाया गया अनाज खाने से व्यक्ति स्वस्थ और प्रसन्न रहता है।

होलिका दहन क्यों किया जाता है?

हिरण्यकश्यप ने होलिका को अपनी गोद में प्रह्लाद के साथ अग्नि में बैठने का आदेश दिया। आग में बैठकर होलिका जल गई, लेकिन प्रह्लाद बच गया। भक्त प्रह्लाद की याद में इस दिन होली जलाई जाती है।

होलिका दहन का क्या

होलिका दहन हिंदुओं का एक महत्वपूर्ण त्योहार है, जिसमें होली के एक दिन पहले शाम को प्रतीकात्मक रूप से होलिका जलाई जाती है। होलिका दहन को बुराई पर अच्छाई की जीत के त्योहार के रूप में मनाया जाता है।

होलिका का असली नाम क्या था?

होलिका असुर राजा हिरण्यकश्यप की बहन थी। हिंदू मान्यताओं के अनुसार, होलिका का जन्म कासगंज जिले में सोरोंशुकारा क्षेत्र नामक स्थान पर हुआ था।

होली की शुरुआत कैसे हुई?

भगवान विष्णु ने नरसिंह के रूप में अवतार लिया और मंदिर की दहलीज पर स्थित गौधुली बेला में अपने नाखूनों से हिरण्यकश्यप का वध किया। हिरण्यकश्यप के वध के बाद अरिच्छा के लोग एक-दूसरे को खुशी मनाने लगे और यहीं से होली की शुरुआत हुई।

Editor

नमस्कार!🙏 मेरा नाम सरोज कुमार (वर्मा) है। और मुझे यात्रा करना, दूसरी जगह की संस्कृति को जानना पसंद है। इसके साथ ही मुझे ब्लॉग लिखना, और उस जानकारी को ब्लॉग के माध्यम से दूसरों के साथ साझा करना भी पसंद है।

एक टिप्पणी भेजें

और नया पुराने

अगर आपने इस लेख को पूरा पढ़ा है, तो आपका बहुत-बहुत धन्यवाद!

यदि आपको इस लेख के बारे में कोई संदेह है या आप चाहते हैं कि इसमें सुधार किया जाए, तो आप इसके लिए टिप्पणी लिख सकते हैं।

इस ब्लॉग का उद्देश्य आपको अच्छी जानकारी देना है, और उसके लिए मुझे स्वयं उस जानकारी की वास्तविकता की जाँच करनी होती है। फिर वह जानकारी इस ब्लॉग पर प्रकाशित की जाती है।

आप इसे यहां नहीं पाएंगे। उदाहरण के लिए-

  • 🛑कंटेंट के बीच में गलत कीवर्ड्स का इस्तेमाल।
  • 🛑एक ही बात को बार-बार लिखना।
  • 🛑सामग्री कम लेकिन डींगे अधिक।
  • 🛑पॉपअप के साथ उपयोगकर्ता को परेशान करना।

अगर आपको यह पोस्ट पसंद आया हो या कुछ सीखने को मिला हो तो कृपया इस पोस्ट को सोशल मीडिया फेसबुक, ट्विटर पर शेयर करें। लेख को अंत तक पढ़ने के लिए एक बार फिर से दिल से धन्यवाद!🙏