World Wetlands Day | विश्व आर्द्रभूमि दिवस क्यों मनाया जाता है? रामसर सम्मेलन का History, महत्व.

World Wetlands Day in Hindi 2022: आर्द्रभूमि किसे कहते हैं? विश्व आर्द्रभूमि दिवस क्यों मनाया जाता है? रामसर सम्मेलन का History, आर्द्रभूमि का महत्व.

{tocify} $title={Table of Contents}
World Wetlands Day Kab Manaya Jata Hai?
Date विश्व आर्द्रभूमि दिवस हर साल 2 फरवरी को मनाया जाता है।
पहली बार विश्व आर्द्रभूमि दिवस पहली बार 1997 में मनाया गया था।
विवरण यह दिन 2 फरवरी 1971 को ईरानी शहर रामसर में कैस्पियन सागर के तट पर वेटलैंड्स पर कन्वेंशन को अपनाने की तारीख को भी चिह्नित करता है।
World Wetlands Day | विश्व आर्द्रभूमि दिवस क्यों मनाया जाता है?

आर्द्रभूमि किसे कहते हैं?

आर्द्रभूमि का अर्थ दलदली क्षेत्र या पानी से संतृप्त क्षेत्र आर्द्रभूमि कहलाता है। कई क्षेत्र साल भर आर्द्र रहते हैं। आर्द्रभूमि जैव विविधता के प्रति अत्यंत संवेदनशील हैं।

ईरान के रामसर शहर की परंपरा के अनुसार आर्द्रभूमि को वह स्थान माना जाता है जहां साल में आठ महीने पानी रहता है। आर्द्रभूमि की मिट्टी किसी झील, नदी, बड़े तालाब के किनारे का वह भाग है जहाँ प्रचुर मात्रा में नमी पाई जाती है। इसके कई फायदे भी हैं। आर्द्रभूमि जल को प्रदूषण मुक्त बनाती है।

विश्व आर्द्रभूमि दिवस क्यों मनाया जाता है?

विश्व आर्द्रभूमि दिवस हर साल 02 फरवरी को पूरी दुनिया में मनाया जाता है। 02 फरवरी 1971 को दुनिया के विभिन्न देशों ने ईरान के रामसर में विश्व की आर्द्रभूमियों के संरक्षण के लिए एक संधि पर हस्ताक्षर किए थे, इसीलिए इस दिन को पूरे विश्व में 'विश्व आर्द्रभूमि दिवस' के रूप में मनाया जाता है।

विश्व आर्द्रभूमि दिवस पहली बार 1997 में मनाया गया था। तब से, सरकारी एजेंसियों, गैर-सरकारी संगठनों और सामुदायिक समूहों ने आर्द्रभूमि के मूल्यों और लाभों के बारे में जन जागरूकता बढ़ाने और संरक्षण को बढ़ावा देने के लिए विश्व आर्द्रभूमि दिवस मनाया जाता है.

रामसर सम्मेलन का History

1971 में, कैस्पियन सागर के पास, ईरान के रामसर में एक अंतर-सरकारी और बहुउद्देश्यीय सम्मेलन आयोजित किया गया था। इस सम्मेलन का उद्देश्य वैश्विक स्तर पर आर्द्रभूमि का संरक्षण करना था।

यह समझौता 1975 में लागू हुआ था। 1982 में भारत इस समझौते में शामिल हुआ। आर्द्रभूमि भारत में कुल भूमि के 4.7% पर फैली हुई है। इस समझौते से फिलहाल 170 देश जुड़े हुए हैं।

आर्द्रभूमि का महत्व:

प्राकृतिक जैव विविधता इसके अस्तित्व के लिए महत्वपूर्ण है। वे पक्षियों और जानवरों, पौधों और कीड़ों की लुप्तप्राय और दुर्लभ प्रजातियों के लिए उपयुक्त आवास प्रदान करते हैं। वेटलैंड्स सर्दियों के पक्षियों और विभिन्न जीवों के लिए भी एक आश्रय स्थल हैं।

आर्द्रभूमि अत्यंत उत्पादक जलीय पारिस्थितिक तंत्र हैं।

आर्द्रभूमियों को जैविक सुपरमार्केट कहा जाता है।

आर्द्रभूमियाँ न केवल जल संग्रहण का कार्य करती हैं, बल्कि बाढ़ में अतिरिक्त पानी को रोककर बाढ़ के खतरे को भी कम करती हैं।

आर्द्रभूमि भूजल स्तर को ऊपर उठाने में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है।

आर्द्रभूमि तूफान और तूफान की संभावना को कम करती है।

भारत में कुल 46 रामसर स्थल हैं।

चिल्का झील, उड़ीसा (1981)
केवलादेव राष्ट्रीय उद्यान, भरतपुर-राजस्थान (1981)

लोकटक झील, मणिपुर (1990)
वूलर झील, जम्मू कश्मीर (1990)
हरीके झील, पंजाब (1990)
सांभर झील, राजस्थान (1990)

कंजली झील, पंजाब (2002)
रोपड़ वेटलैण्ड्स, पंजाब (2002)
कोल्लेरू झील, आंध्र प्रदेश (2002)
दीपोर बील, असम (2002)
पोंग बांध झील, हिमाचल प्रदेश (2002)
त्सो-मोरीरी, लद्दाख (2002)
अष्टमुडी वेटलैंड, केरल (2002)
सस्थमकोट्टा झील, केरल (2002)
वेम्बनाड- कोल , केरल (2002)
भोज वेटलैंड, भोपाल-मध्यप्रदेश (2002)
भितरकनिका मैंग्रोव, ओडीशा (2002)
प्वाइंट कैलिमेरे वन्य जीव और पक्षी अभयारण्य, तमिलनाडु (2002)
पूर्व कोलकाता वेटलैंड्स, पश्चिम बंगाल (2002)

चंद्रताल वेटलैंड, हिमाचल प्रदेश (2005)
रेणुका वेटलैंड, हिमाचल प्रदेश (2005)
होकेरा वेटलैंड, जम्मू कश्मीर (2005)
सूरिंसार मानसर झील, जम्मू कश्मीर (2005)
रुद्र सागर झील, त्रिपुरा (2005)
ऊपरी गंगा नदी, उत्तर प्रदेश (2005)

नल सरोवर पक्षी अभयारण्य, गुजरात (2012)

सुंदरवन डेल्टा, पश्चिम बंगाल (2019)
नंदूर मद्मेश्वर नासिक , महाराष्ट्र (2019)
नवाबगंज पक्षी अभयारण्य, उत्तर प्रदेश (2019)
केशोपुर मियानी कम्युनिटी रिजर्व, पंजाब (2019)
व्यास सरंक्षण रिजर्व, पंजाब (2019)
नांगल वन्यजीव अभयारण्य, पंजाब (2019)
सांडी पक्षी अभयारण्य, उत्तर प्रदेश (2019)
समसपुर पक्षी अभयारण्य, उत्तर प्रदेश (2019)
समन पक्षी अभयारण्य, उत्तर प्रदेश (2019)
पार्वती अरगा पक्षी अभयारण्य, गोण्डा-उत्तर प्रदेश (2019)
सरसई नावर झील, इटावा-उत्तर प्रदेश (2019)

आसन रिजर्व, उत्तराखंड (2020)
काबर तल, बिहार (2020)
लोनार झील, महाराष्ट्र (2020)
सूर सरोवर ,उत्तर प्रदेश (2020)
त्सो-कर झील , लद्दाख (2020)

भिंडावास वन्य जीव अभ्यारण,हरियाणा (2021)
सुल्तानपुर राष्ट्रीय पार्क ,हरियाणा (2021)
थोल झील वन्यजीव अभयारण्य ,गुजरात (2021)
वाधवाना आर्द्रभूमि ,गुजरात (2021)

Editor

नमस्कार!🙏 मेरा नाम सरोज कुमार (वर्मा) है। और मुझे यात्रा करना, दूसरी जगह की संस्कृति को जानना पसंद है। इसके साथ ही मुझे ब्लॉग लिखना, और उस जानकारी को ब्लॉग के माध्यम से दूसरों के साथ साझा करना भी पसंद है।

एक टिप्पणी भेजें

और नया पुराने

अगर आपने इस लेख को पूरा पढ़ा है, तो आपका बहुत-बहुत धन्यवाद!

यदि आपको इस लेख के बारे में कोई संदेह है या आप चाहते हैं कि इसमें सुधार किया जाए, तो आप इसके लिए टिप्पणी लिख सकते हैं।

इस ब्लॉग का उद्देश्य आपको अच्छी जानकारी देना है, और उसके लिए मुझे स्वयं उस जानकारी की वास्तविकता की जाँच करनी होती है। फिर वह जानकारी इस ब्लॉग पर प्रकाशित की जाती है।

आप इसे यहां नहीं पाएंगे। उदाहरण के लिए-

  • 🛑कंटेंट के बीच में गलत कीवर्ड्स का इस्तेमाल।
  • 🛑एक ही बात को बार-बार लिखना।
  • 🛑सामग्री कम लेकिन डींगे अधिक।
  • 🛑पॉपअप के साथ उपयोगकर्ता को परेशान करना।

अगर आपको यह पोस्ट पसंद आया हो या कुछ सीखने को मिला हो तो कृपया इस पोस्ट को सोशल मीडिया फेसबुक, ट्विटर पर शेयर करें। लेख को अंत तक पढ़ने के लिए एक बार फिर से दिल से धन्यवाद!🙏