World Day of Social Justice in Hindi 2023 | विश्व सामाजिक न्याय दिवस कब मनाया जाता है?

0

World Day of Social Justice in Hindi 2023: विश्व सामाजिक न्याय दिवस हर साल 20 फरवरी को पूरी दुनिया में मनाया जाता है।

toc
World Day of Social Justice Kab Manaya Jata Hai?
Date हर साल 20 फरवरी को पूरी दुनिया में मनाया जाता है।
पहली बार पहली बार इस दिन को विश्व स्तर पर 2009 में मनाया गया था।
विवरण न्याय समाज को कई बुराइयों और असामाजिक तत्वों से दूर रखने के साथ-साथ लोगों के नैतिक और मानवाधिकारों की रक्षा करता है।
World Day of Social Justice

विश्व सामाजिक न्याय दिवस क्यों मनाया जाता है?

किसी भी सभ्य समाज के लिए न्याय बहुत जरूरी है। समाज में फैली असमानता और भेदभाव के कारण सामाजिक न्याय की मांग तेज हो जाती है। सामाजिक न्याय पर काम और विचार बहुत पहले शुरू हो गए थे लेकिन दुर्भाग्य से अभी भी सामाजिक न्याय दुनिया के कई लोगों के लिए एक सपना बना हुआ है।

अगर संक्षेप में भारत की बात करें तो आज भी आम आदमी को अपनी कई बुनियादी जरूरतों के लिए न्याय प्रक्रिया का पता नहीं है, जिसके कारण कई बार उसके मानवाधिकारों का हनन होता है और उसे अपने अधिकारों से वंचित रहना पड़ता है.

सामाजिक न्याय का अर्थ है समाज के सभी वर्गों को वृद्धि और विकास के समान अवसर प्रदान करना। सामाजिक न्याय यह सुनिश्चित करता है कि समाज में कोई भी व्यक्ति वर्ग, वर्ण या जाति के कारण विकास की दौड़ में पीछे न रहे। यह तभी संभव है जब समाज से भेदभाव दूर हो।

आज भारत में अशिक्षा, गरीबी, बेरोजगारी, महंगाई और आर्थिक असमानता चरम पर है। इन भेदभावों के कारण सामाजिक न्याय एक बड़ी चिंता का विषय बन गया है। भारत में फैली जाति व्यवस्था और उस पर स्वार्थी भेदभाव सामाजिक न्याय को रोकने में एक महत्वपूर्ण कारक साबित होता है।

भारत में, कई सरकारी तंत्र जैसे राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग, राष्ट्रीय महिला एवं बाल विकास आयोग और लाखों स्वयंसेवी संगठन हमेशा यह सुनिश्चित करने का प्रयास करते हैं कि कोई भी आम व्यक्ति समाज में भेदभाव के कारण पीड़ित न हो।

यह दिन बहिष्कार, बेरोजगारी और गरीबी जैसे विभिन्न सामाजिक मुद्दों से निपटने के प्रयासों को बढ़ावा देने के लिए मनाया जाता है। इस अवसर पर संयुक्त राष्ट्र और अंतर्राष्ट्रीय श्रम संगठन जैसे विभिन्न संगठनों द्वारा सामाजिक न्याय के लिए अपीलें जारी की जाती हैं।

संयुक्त राष्ट्र के अनुसार, सामाजिक न्याय देशों के बीच समृद्ध और शांतिपूर्ण सह-अस्तित्व के लिए एक अंतर्निहित सिद्धांत है। सामाजिक न्याय का अर्थ है लिंग, आयु, धर्म, विकलांगता और संस्कृति की भावना को भूलकर एक समान समाज की स्थापना करना।

संयुक्त राष्ट्र ने कहा कि इस दिन अंतरराष्ट्रीय समुदाय को गरीबी उन्मूलन के लिए काम करना चाहिए। लोगों के लिए हर जगह अच्छे काम और रोजगार की उपलब्धता सुनिश्चित हो, तभी सामाजिक न्याय संभव है।

विश्व सामाजिक न्याय दिवस का इतिहास:

समाज में फैले भेदभाव और असमानता के कारण कई स्थितियां इतनी खराब हो जाती हैं कि मानवाधिकारों का भी उल्लंघन होता है। इस तथ्य को ध्यान में रखते हुए संयुक्त राष्ट्र ने 20 फरवरी को विश्व सामाजिक न्याय दिवस के रूप में मनाने का फैसला किया है।

2009 से, यह दिन पूरी दुनिया में सामाजिक न्याय को बढ़ावा देने वाले कार्यक्रमों द्वारा मनाया जाता है। हालाँकि, "विश्व सामाजिक न्याय दिवस" 26 नवंबर 2007 को स्थापित किया गया था.

जब संयुक्त राष्ट्र महासभा ने 20 फरवरी को महासभा के 63 वें सत्र से "विश्व सामाजिक न्याय दिवस" के रूप में घोषित किया था। पहली बार इस दिन को विश्व स्तर पर 2009 में मनाया गया था।

World Day of Social Justice Official Statment/Source :- https://www.un.org/en/observances/social-justice-day

एक टिप्पणी भेजें

0टिप्पणियाँ
एक टिप्पणी भेजें (0)

अगर आपने इस लेख को पूरा पढ़ा है, तो आपका बहुत-बहुत धन्यवाद!

यदि आपको इस लेख के बारे में कोई संदेह है या आप चाहते हैं कि इसमें सुधार किया जाए, तो आप इसके लिए टिप्पणी लिख सकते हैं।

इस ब्लॉग का उद्देश्य आपको अच्छी जानकारी देना है, और उसके लिए मुझे स्वयं उस जानकारी की वास्तविकता की जाँच करनी होती है। फिर वह जानकारी इस ब्लॉग पर प्रकाशित की जाती है।

आप इसे यहां नहीं पाएंगे। उदाहरण के लिए-

  • 🛑कंटेंट के बीच में गलत कीवर्ड्स का इस्तेमाल।
  • 🛑एक ही बात को बार-बार लिखना।
  • 🛑सामग्री कम लेकिन डींगे अधिक।
  • 🛑पॉपअप के साथ उपयोगकर्ता को परेशान करना।

अगर आपको यह पोस्ट पसंद आया हो या कुछ सीखने को मिला हो तो कृपया इस पोस्ट को सोशल मीडिया फेसबुक, ट्विटर पर शेयर करें। लेख को अंत तक पढ़ने के लिए एक बार फिर से दिल से धन्यवाद!🙏

#buttons=(Accept !) #days=(20)

Our website uses cookies to enhance your experience. Learn More
Accept !