World Mental Health Day क्यों मनाया जाता है, Vishv Maanasik Svaasthy Divas कब मनाया जाता है, विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस की शुरुआत

World Mental Health Day 2021: क्यों मनाया जाता है, Vishv Maanasik Svaasthy Divas कब मनाया जाता है, विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस की शुरुआत कब हुई? इस बीमारी से ग्रस्त लोग आत्महत्या भी करते हैं। मानसिक स्वास्थ्य आत्महत्या के चेतावनी संकेत, आइए इस लेख के माध्यम से जानते हैं।

भागदौड़ भरी जिंदगी में शरीर में थकान होना एक आम बात है। कई बार थकान के कारण हम किसी शारीरिक बीमारी का शिकार भी हो जाते हैं। शारीरिक बीमारी सभी को दिखाई देती है कि वे बीमार हैं और उन्हें इलाज की जरूरत है.

लेकिन कभी-कभी व्यक्ति को मानसिक बीमारी भी हो जाती है और इसके बारे में पता भी नहीं होता है। ऐसे में मानसिक स्वास्थ्य के प्रति जागरूकता बेहद जरूरी है। लोगों को मानसिक स्वास्थ्य के प्रति जागरूक करने के उद्देश्य से विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस मनाया जाता है।

{tocify} $title={Table of Contents}
World Mental Health Day Kab Manaya Jata Hai?
Date हर साल 10 अक्टूबर को मनाया जाता है.
शुरुआत विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस पहली बार वर्ष 1992 में संयुक्त राष्ट्र (यूएन) के उप महासचिव रिचर्ड हंटर और वर्ल्ड फेडरेशन फॉर मेंटल हेल्थ की पहल पर मनाया गया था।
विवरण लोग डिप्रेशन या अन्य मानसिक बीमारियों के शिकार हो रहे हैं। कई बार लोग मानसिक बीमारी की चपेट में इस तरह आ जाते हैं कि वे आत्महत्या के बारे में भी सोचने लगते हैं।
World Mental Health Day

विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस कब मनाया जाता है?

विश्व में मानसिक स्वास्थ्य के मुद्दों के बारे में जागरूकता बढ़ाने के उद्देश्य से हर साल 10 अक्टूबर को विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस मनाया जाता है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के अनुसार, दुनिया भर में अनुमानित 350 मिलियन लोग मानसिक विकारों से पीड़ित हैं। दुनिया भर में चार में से एक व्यक्ति मानसिक विकारों से प्रभावित है।

विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस क्यों मनाया जाता है?

विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस मानसिक बीमारी के बारे में जागरूकता बढ़ाने का प्रयास करता है। इस दिन का उद्देश्य जनसंख्या को शिक्षित करना और मानसिक स्वास्थ्य के समर्थन में प्रयास करना है। मानसिक स्वास्थ्य में व्यक्ति की भावनात्मक, मनोवैज्ञानिक और सामाजिक भलाई शामिल होती है।

आज दुनिया में लोग कई कारणों से डिप्रेशन या अन्य मानसिक बीमारियों के शिकार हो रहे हैं। कई बार लोग मानसिक बीमारी की चपेट में इस तरह आ जाते हैं कि वे आत्महत्या के बारे में भी सोचने लगते हैं।

ऐसे में दुनिया को मानसिक स्वास्थ्य के प्रति जागरूक करने के उद्देश्य से इस दिन को मनाया जाता है। आज दुनिया में बहुत से लोग डिप्रेशन या किसी और मानसिक बीमारी के शिकार हैं।

सामान्य तौर पर लोग मानसिक स्वास्थ्य को बहुत मामूली समझते हैं और बीमारी के खतरों को ज्यादातर नजरअंदाज कर दिया जाता है। इसलिए मानसिक स्वास्थ्य की समस्याओं के बारे में शिक्षित और जागरूक करना आवश्यक है।

विश्व स्वास्थ्य संगठन की रिपोर्ट के मुताबिक भारत के लोग दुनिया में सबसे ज्यादा डिप्रेशन में हैं।

आत्महत्या के चेतावनी संकेत

व्यक्ति के भीतर कुछ हद तक आत्महत्या के चेतावनी संकेत भी पहचाने जा सकते हैं। क्रोध, लापरवाह व्यवहार, प्रतिशोध, निराशा, फंसा हुआ महसूस करना, शराब का अधिक सेवन, परिवार से अलगाव, समाज से अलगाव, अत्यधिक चिंता, आंदोलन, नींद न आना, अचानक गुस्सा आना, नखरे बदलना आदि संकेतों में शामिल हैं।

रिपोर्ट्स के मुताबिक, दुनिया भर में हर साल आठ लाख से ज्यादा लोग आत्महत्या से मरते हैं। यह बताया गया है कि 19 से 30 वर्ष की आयु के लोग अधिक आत्महत्या करते हैं।

विश्व स्तर पर ज्यादातर लोग कीटनाशक खाकर, फांसी लगाकर और बंदूक से गोली मारकर आत्महत्या कर लेते हैं। आपको बता दें कि पूरी दुनिया में कई लोग आत्महत्या का प्रयास करते हैं, जिसमें कई की मौत हो जाती है, कई लोगों की जान बच जाती है।

विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस का इतिहास

1992 में, वर्ल्ड फेडरेशन फॉर मेंटल हेल्थ (WFMH) ने शिक्षा को बढ़ावा देने और मानसिक स्वास्थ्य पीड़ितों की मदद करने के प्रयास में विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस की स्थापना की।

विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस पहली बार वर्ष 1992 में संयुक्त राष्ट्र (यूएन) के उप महासचिव रिचर्ड हंटर और वर्ल्ड फेडरेशन फॉर मेंटल हेल्थ की पहल पर मनाया गया था।

इसके बाद वर्ष 1994 में संयुक्त राष्ट्र के तत्कालीन महासचिव यूजीन ब्रॉडी के सुझाव के बाद विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस मनाने की थीम 1994 में पहली बार शुरू की गई। "दुनिया भर में मानसिक स्वास्थ्य सेवाओं की गुणवत्ता में सुधार"

तब से हर साल 10 अक्टूबर को मानसिक स्वास्थ्य के प्रति जागरूकता बढ़ाने के लिए वैश्विक स्तर पर कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं। ऑस्ट्रेलिया सहित कुछ देशों में मानसिक रोगों की रोकथाम और नुकसान के बारे में जागरूकता फैलाने के लिए मानसिक स्वास्थ्य सप्ताह भी मनाया जाता है।

Editor

नमस्कार!🙏 मेरा नाम सरोज कुमार (वर्मा) है। और मुझे यात्रा करना, दूसरी जगह की संस्कृति को जानना पसंद है। इसके साथ ही मुझे ब्लॉग लिखना, और उस जानकारी को ब्लॉग के माध्यम से दूसरों के साथ साझा करना भी पसंद है।

एक टिप्पणी भेजें

और नया पुराने

अगर आपने इस लेख को पूरा पढ़ा है, तो आपका बहुत-बहुत धन्यवाद!

यदि आपको इस लेख के बारे में कोई संदेह है या आप चाहते हैं कि इसमें सुधार किया जाए, तो आप इसके लिए टिप्पणी लिख सकते हैं।

इस ब्लॉग का उद्देश्य आपको अच्छी जानकारी देना है, और उसके लिए मुझे स्वयं उस जानकारी की वास्तविकता की जाँच करनी होती है। फिर वह जानकारी इस ब्लॉग पर प्रकाशित की जाती है।

आप इसे यहां नहीं पाएंगे। उदाहरण के लिए-

  • 🛑कंटेंट के बीच में गलत कीवर्ड्स का इस्तेमाल।
  • 🛑एक ही बात को बार-बार लिखना।
  • 🛑सामग्री कम लेकिन डींगे अधिक।
  • 🛑पॉपअप के साथ उपयोगकर्ता को परेशान करना।

अगर आपको यह पोस्ट पसंद आया हो या कुछ सीखने को मिला हो तो कृपया इस पोस्ट को सोशल मीडिया फेसबुक, ट्विटर पर शेयर करें। लेख को अंत तक पढ़ने के लिए एक बार फिर से दिल से धन्यवाद!🙏