National Bird Day 2022 | भारत में राष्ट्रीय पक्षी दिवस कब और क्यों मनाया जाता है? 🐤Bird Man डॉ. Salim Ali की जीवनी

0

National Bird Day 2022: राष्ट्रीय पक्षी दिवस कब और क्यों मनाया जाता है? Bird Man डॉ. Salim Ali की जीवनी के बारे भी जाने।

राष्ट्रीय पक्षी दिवस हर साल 12 नवंबर को पूरे देश में मनाया जाता है। भारत के प्रसिद्ध पक्षी विज्ञानी और प्रकृतिवादी डॉ. सलीम अली की जयंती के अवसर पर भारत सरकार द्वारा राष्ट्रीय पक्षी दिवस घोषित किया गया था।

toc
National Bird Day Kab Manaya Jata Hai?
Date हर साल 12 नवंबर को मनाया जाता है।
विवरण विश्व प्रसिद्ध पक्षी विशेषज्ञ डॉ. सलीम अली के जन्मदिन को भारत में 'राष्ट्रीय पक्षी दिवस' के रूप में मनाया जाता है।
जन्म डॉ सलीम अली का जन्म 12 नवंबर 1896 को बॉम्बे में एक सुलेमानी बोहरा मुस्लिम परिवार में हुआ था।
निधन डॉ. सलीम अली का 27 जुलाई 1987 को मुंबई में 91 वर्ष की आयु में निधन हो गया।
पुस्तकें 'द बुक ऑफ इंडियन बर्ड्स', 'हैंडबुक ऑफ द बर्ड्स ऑफ इंडिया एंड पाकिस्तान' इसके अलावा, उनकी पुस्तक 'द फॉल ऑफ इंडिया' है, जिसमें उन्होंने अपने जीवन की घटनाओं का उल्लेख किया है।
National Bird Day

राष्ट्रीय पक्षी दिवस क्यों मनाया जाता है?

डॉ. सलीम अली एक प्रसिद्ध पक्षी विशेषज्ञ थे। उन्हें भारत में "पक्षी मानव" के रूप में भी जाना जाता था। पद्म विभूषण से सम्मानित पक्षियों के इस मसीहा को प्रकृति के संरक्षण की दिशा में किए गए प्रयासों के लिए कभी नहीं भुलाया जा सकता है। इसलिए इनके जन्मदिन पर राष्ट्रीय पक्षी दिवस मनाया जाता है?

भारत का राष्ट्रीय पक्षी

मोर भारत का राष्ट्रीय पक्षी है। मोर एक बहुत ही सुंदर और आकर्षक पक्षी है। यह भारत के सभी क्षेत्रों में पाया जाता है। मोर के मस्तक पर मुकुट जैसा सुन्दर कलंगी होता है।

इसकी लंबी गर्दन पर एक सुंदर नीला मखमली रंग है। मोर की अद्भुत सुंदरता के कारण, भारत सरकार ने 26 जनवरी 1963 को इसे राष्ट्रीय पक्षी घोषित किया।

मोर हमारे पड़ोसी देशों म्यांमार और श्रीलंका का राष्ट्रीय पक्षी भी है। भारत में मोर का शिकार पूरी तरह से प्रतिबंधित है। इसे भारतीय वन्यजीव (संरक्षण) अधिनियम, 1972 के तहत पूर्ण संरक्षण दिया गया है।

डॉ सलीम अली की जीवनी

डॉ सलीम अली का जन्म 12 नवंबर 1896 को बॉम्बे में एक सुलेमानी बोहरा मुस्लिम परिवार में हुआ था। डॉ. सलीम अली का 91 वर्ष की आयु में 27 जून 1987 को निधन हो गया।

बर्डमैन ऑफ इंडिया डॉ. सलीम मोइज़ुद्दीन अब्दुल अली का जन्म 12 नवंबर 1896 को मुंबई, ब्रिटिश भारत में एक सुलेमानी बोहरा मुस्लिम परिवार में हुआ था। वह अपने भाई-बहनों में सबसे छोटा था।

उनके जन्म के एक साल बाद, पिता मोइज़ुद्दीन की मृत्यु हो गई और तीन साल बाद उनकी मां जीनत-उन-निसा की मृत्यु हो गई। उनका पालन-पोषण मुंबई के खेतवाड़ी में एक मध्यमवर्गीय परिवार में मामा अमरुद्दीन और निःसंतान मामी हमीदा बेगम की देखरेख में हुआ।

उनका सारा बचपन पक्षियों के बीच बीता। एक गौरैया की गर्दन पर पीले धब्बे की जिज्ञासा ने उन्हें मुंबई की 'नेचुरल हिस्ट्री सोसाइटी' के सचिव डब्ल्यू.एस. मिलार्ड के पास ले गए। यह मुलाकात उनके जीवन का टर्निंग प्वाइंट साबित हुई।

सलीम को पहली बार पक्षियों की इतनी प्रजातियों के अस्तित्व के बारे में पता चला। यहीं से उनका झुकाव पक्षियों की ओर था और उन्होंने उनके बारे में सब कुछ जानने का फैसला किया।

मिलार्ड ने इसमें उनकी काफी मदद की। उन्होंने सलीम को सोसायटी के पक्षियों के संग्रह से परिचित कराया। साथ ही पक्षियों से जुड़ी कुछ किताबों से भी अवगत कराया।

एडवर्ड हैमिल्टन एटकेन की किताब 'कॉमन बर्ड्स ऑफ बॉम्बे' ने सलीम को पक्षियों को इकट्ठा करने के लिए प्रेरित किया। सलीम के पास यूनिवर्सिटी की डिग्री नहीं थी। इसका सबसे बड़ा कारण यह था कि वह गणित में कमजोर था। हालांकि उनकी पढ़ाई कॉलेज में हुई थी, लेकिन उन्हें डिग्री नहीं मिल पाई थी।

सलीम अली को बचपन से ही प्रकृति के मुक्त वातावरण में घूमने का शौक था। बड़े होकर, सलीम अली को बड़े भाई के साथ अपने काम में मदद करने के लिए म्यांमार भेजा गया था। यहाँ भी उनका मन जंगल में तरह-तरह के पक्षियों को देखने में लगता था।

घर लौटने पर, सलीम अली ने पक्षीविज्ञान में प्रशिक्षण लिया और उन्हें प्राकृतिक इतिहास संग्रहालय, बॉम्बे में एक गाइड के रूप में नियुक्त किया गया। फिर वे जर्मनी गए और उच्च प्रशिक्षण प्राप्त किया।

लेकिन एक साल बाद देश लौटने के बाद, बंबई बंदरगाह के पास किहिम नामक स्थान पर एक छोटे से घर में रहने लगे। यह घर चारों तरफ से पेड़ों से घिरा हुआ था। उस साल भारी बारिश के कारण एक चिड़िया ने उनके घर के पास एक पेड़ पर अपना घोंसला बना लिया। सलीम अली तीन से चार महीने तक दिन में घंटों पक्षी के रहन-सहन का अध्ययन किया करते थे।

साल 1906 में दस साल के लड़के सलीम अली की अटूट जिज्ञासा ने उन्हें आज दुनिया में एक पक्षी विज्ञानी के रूप में पहचान दिलाई है। पक्षियों के सर्वेक्षण में 65 वर्ष व्यतीत करने वाले इस व्यक्ति को पद्म विभूषण से सम्मानित इस 'पक्षियों के मसीहा' के प्रकृति संरक्षण की दिशा में किए गए प्रयासों को कभी भुलाया नहीं जा सकता।

सलीम अली पक्षीविज्ञान और प्राकृतिक इतिहास केंद्र की स्थापना उनके नाम पर बॉम्बे नेचुरल हिस्ट्री सोसाइटी और पर्यावरण और वन मंत्रालय द्वारा कोयंबटूर के पास अनाइकट्टी नामक स्थान पर की गई थी।

सलीम अली एक भारतीय पक्षी विज्ञानी और प्रकृतिवादी थे। सलीम अली को भारत का बर्डमैन कहा जाता है। सलीम अली भारत के पहले व्यक्ति थे जिन्होंने पूरे भारत में व्यवस्थित रूप से पक्षी सर्वेक्षण किया और पक्षीविज्ञान के विकास में बहुत मदद की है।

सलीम अली द्वारा लिखित पुस्तकें।

1930 में, उन्होंने अपने अध्ययन पर आधारित लेख प्रकाशित किए। इन्हीं लेखों के कारण सलीम अली को 'पक्षी शास्त्री' के रूप में पहचाना गया। सलीम अली ने कुछ किताबें भी लिखी हैं।

सलीम अली पक्षियों के बारे में जानकारी इकट्ठा करने के लिए जगह-जगह जाया करते थे। एकत्रित जानकारी के आधार पर उनकी पुस्तक 'द बुक ऑफ इंडियन बर्ड्स' ने 1941 में इसके प्रकाशन के बाद रिकॉर्ड बिक्री की।

उन्होंने एक दूसरी पुस्तक 'हैंडबुक ऑफ द बर्ड्स ऑफ इंडिया एंड पाकिस्तान' भी लिखी, जिसमें सभी प्रकार के पक्षियों, उनके गुण और दोषों, प्रवासी आदतों आदि से संबंधित कई व्यापक जानकारी दी गई थी।

इसके अलावा, उनकी पुस्तक 'द फॉल ऑफ इंडिया' एक गौरैया' भी महत्वपूर्ण है, जिसमें उन्होंने अपने जीवन की घटनाओं का उल्लेख किया है।

डॉ. सलीम अली को सम्मान और पुरस्कार।

डॉ. सलीम अली ने प्राकृतिक विज्ञान और पक्षीविज्ञान के क्षेत्र में महत्वपूर्ण योगदान दिया। इस दिशा में उनके कार्य को देखते हुए उन्हें कई प्रतिष्ठित सम्मानों से नवाजा गया।

अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय और दिल्ली विश्वविद्यालय ने उन्हें मानद डॉक्टरेट की उपाधि प्रदान की। उनके महत्वपूर्ण कार्यों के लिए, भारत सरकार ने उन्हें 1958 में पद्म भूषण और 1976 में पद्म विभूषण जैसे महत्वपूर्ण नागरिक सम्मानों से भी सम्मानित किया।

डॉ सलीम अली की मृत्यु।

डॉ. सलीम अली का 27 जुलाई 1987 को मुंबई में 91 वर्ष की आयु में निधन हो गया। डॉ. सलीम अली भारत में 'पक्षी अध्ययन और अनुसंधान केंद्र' स्थापित करना चाहते थे।

प्राकृतिक विज्ञान और पक्षी विज्ञान के क्षेत्र में उनके महत्वपूर्ण कार्य और महत्वपूर्ण योगदान की मान्यता में, 'सलीम अली सेंटर फॉर ऑर्निथोलॉजी एंड नेचुरल हिस्ट्री' की स्थापना 'बॉम्बे नेचुरल हिस्ट्री सोसाइटी' और 'पर्यावरण और वन मंत्रालय' द्वारा एक ही स्थान पर अनाइकट्टी' कोयंबटूर के पास की गई थी।

डॉ. सलीम अली से जुड़े महत्वपूर्ण रोचक तथ्य

डाक विभाग ने उनकी याद में डाक टिकट भी जारी किया है।

डॉ. सलीम अली को भारत में "बर्ड मैन" के नाम से भी जाना जाता था।

सलीम अली को 1958 में 'पद्म भूषण' और 1976 में 'पद्म विभूषण' से अलंकृत किया गया था।

सलीम अली ने पक्षियों से संबंधित कई किताबें लिखीं। 'बर्ड्स ऑफ इंडिया' उनमें से सबसे लोकप्रिय किताब है।

पक्षी विशेषज्ञ सलीम अली के जन्मदिन को भारत सरकार द्वारा राष्ट्रीय पक्षी दिवस के रूप में घोषित किया गया है।

दिल्ली विश्वविद्यालय और अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय जैसे संस्थानों ने उन्हें डॉक्टरेट की मानद उपाधि से सम्मानित किया।

एक टिप्पणी भेजें

0टिप्पणियाँ
एक टिप्पणी भेजें (0)

अगर आपने इस लेख को पूरा पढ़ा है, तो आपका बहुत-बहुत धन्यवाद!

यदि आपको इस लेख के बारे में कोई संदेह है या आप चाहते हैं कि इसमें सुधार किया जाए, तो आप इसके लिए टिप्पणी लिख सकते हैं।

इस ब्लॉग का उद्देश्य आपको अच्छी जानकारी देना है, और उसके लिए मुझे स्वयं उस जानकारी की वास्तविकता की जाँच करनी होती है। फिर वह जानकारी इस ब्लॉग पर प्रकाशित की जाती है।

आप इसे यहां नहीं पाएंगे। उदाहरण के लिए-

  • 🛑कंटेंट के बीच में गलत कीवर्ड्स का इस्तेमाल।
  • 🛑एक ही बात को बार-बार लिखना।
  • 🛑सामग्री कम लेकिन डींगे अधिक।
  • 🛑पॉपअप के साथ उपयोगकर्ता को परेशान करना।

अगर आपको यह पोस्ट पसंद आया हो या कुछ सीखने को मिला हो तो कृपया इस पोस्ट को सोशल मीडिया फेसबुक, ट्विटर पर शेयर करें। लेख को अंत तक पढ़ने के लिए एक बार फिर से दिल से धन्यवाद!🙏

#buttons=(Accept !) #days=(20)

Our website uses cookies to enhance your experience. Learn More
Accept !