International Men's Day | अंतर्राष्ट्रीय पुरुष दिवस कब, क्यों और कैसे मनाया जाता है? थीम, इतिहास और महत्व

International Men's Day 2021: ऐसे में सवाल यह भी उठता है कि अंतरराष्ट्रीय पुरुष दिवस मनाने की जरूरत क्यों पड़ी। आइए अब आपको बताते हैं कि विश्व पुरुष दिवस कब, क्यों और कैसे मनाया जाता है? अंतर्राष्ट्रीय पुरुष दिवस का विषय और महत्व क्या है? इसके बारे में जानते हैं। अंतर्राष्ट्रीय पुरुष दिवस क्यों मनाया जाता है?

दुनिया में पुरुषों की छवि हमेशा से एक क्रोधी, हिंसक और अधीर व्यक्ति के रूप में जानी जाती रही है, फिल्मों से लेकर किताबों तक, पुरुषों के इस रूप को दिखाया और दर्शाया गया है। लेकिन सवाल यह उठता है कि क्या पुरुष वास्तव में समान व्यक्तित्व वाले इंसान हैं या लोगों के बीच फैली यह परिभाषा सिर्फ एक अवधारणा है।

{tocify} $title={Table of Contents}
International Men's Day Kab Manaya Jata Hai?
Date हर साल 19 नवंबर को अंतर्राष्ट्रीय पुरुष दिवस मनाया जाता है।
शुरुआत अंतर्राष्ट्रीय पुरुष दिवस की शुरुआत 19 नवंबर 1999 को वेस्ट इंडीज के इतिहास व्याख्याता डॉ. जेरोम तिलक सिंह द्वारा की गई थी।
विवरण विश्व स्तर पर पुरुषों के महत्व को बताने और समाज और परिवार में सकारात्मक बदलाव की कामना करने के लिए हर साल 19 नवंबर को अंतर्राष्ट्रीय पुरुष दिवस मनाया जाता है।
International Men's Day

अंतर्राष्ट्रीय पुरुष दिवस कब मनाया जाता है?

विश्व स्तर पर पुरुषों के महत्व को बताने और समाज और परिवार में सकारात्मक बदलाव की कामना करने के लिए हर साल 19 नवंबर को अंतर्राष्ट्रीय पुरुष दिवस मनाया जाता है।

अंतर्राष्ट्रीय पुरुष दिवस क्यों मनाया जाता है?

International Men's Day: जिस उत्साह और समर्थन के साथ महिला दिवस मनाया जाता है, उस तरह का उत्साह और दीवानगी पुरुष दिवस के लिए नहीं देखी जाती है। यह दिन मुख्य रूप से पुरुषों को भेदभाव, शोषण, उत्पीड़न, हिंसा और असमानता से बचाने और उन्हें उनका अधिकार दिलाने के लिए मनाया जाता है।

अंतर्राष्ट्रीय पुरुष दिवस (IMD) पुरुषों और लड़कों के सामने आने वाले मुद्दों के बारे में जागरूकता बढ़ाने का प्रयास करता है। इस दिन का उद्देश्य पुरुषों की उपलब्धियों को स्वीकार करना और उनके समुदायों में उनके योगदान का जश्न मनाना है। यह पुरुषों और लड़कों के मानसिक स्वास्थ्य के बारे में चर्चा को प्रोत्साहित करता है और लैंगिक संबंधों को बेहतर बनाने का भी काम करता है।

अंतर्राष्ट्रीय पुरुष दिवस का इतिहास

कई पुरुषों द्वारा अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस की तर्ज पर अंतर्राष्ट्रीय पुरुष दिवस मनाने की मांग की गई थी। इस पर युवकों ने जमकर हंगामा भी किया। उस वक्त पुरुषों ने 1968 में 24 फरवरी को अंतरराष्ट्रीय पुरुष दिवस मनाने की मांग की थी.

इसके बाद 1968 में अमेरिकी पत्रकार जॉन पी. हैरिस ने एक लेख लिखकर कहा कि सोवियत व्यवस्था महिलाओं के लिए अंतर्राष्ट्रीय दिवस मनाती है लेकिन यह पुरुषों के लिए किसी भी तरह का दिन नहीं मनाती है।

1992 में 7 फरवरी को थॉमस ओस्टर द्वारा उद्घाटन किया गया, अंतर्राष्ट्रीय पुरुष दिवस की परियोजना की कल्पना एक साल पहले 8 फरवरी 1991 को की गई थी। अंतर्राष्ट्रीय पुरुष दिवस की शुरुआत 1991 में प्रोफेसर थॉमस ओस्टर द्वारा की गई थी।

इसके बाद त्रिनिदाद और टोबैगो के लोगों ने 19 नवंबर 1999 को इतिहास के प्रोफेसर डॉ. जेरोम तिलक सिंह द्वारा पहली बार अंतर्राष्ट्रीय पुरुष दिवस मनाया। डॉ. जेरोम तिलक सिंह ने जीवन में पुरुषों के योगदान को एक नाम देने की पहल की। धीरे-धीरे यह 19 नवंबर को पूरी दुनिया में मनाया जाने लगा।

भारत में पुरुष दिवस की शुरुआत

भारत में पुरुष दिवस की शुरुआत 19 नवंबर 2007 को प्रमुख भारतीय पुरुष अधिकार संगठन भारतीय परिवार द्वारा आयोजित किया गया था। 19 नवंबर की तारीख को इस तथ्य के आधार पर स्वीकार किया गया था कि ऑस्ट्रेलिया और वेस्ट इंडीज (जमैका, त्रिनिदाद और टोबैगो) में पहले से ही मनाये जा रहे थे।

इसलिए भारत में भी पुरुषों के अधिकार और सम्मान के लिए यह दिवस दूसरे देशों की तरह मनाया जाना चाहिए. तब से इस उत्सव को सालाना जारी रखने की योजना बनाई गई।

यह भी माना जाता है की- भारत में पुरुष दिवस की शुरुआत 2007 में हैदराबाद की एक लेखिका उमा चल्ला ने की थी। उमा चल्ला के अनुसार, जब हमारी संस्कृति में शिव और शक्ति दोनों का समान महत्व है, तो पुरुषों के लिए भी उत्सव का दिन होना चाहिए। भारत ने वर्ष 2007 में पहली बार अंतर्राष्ट्रीय पुरुष दिवस मनाया। तब से, भारत में हर साल 19 नवंबर को अंतर्राष्ट्रीय पुरुष दिवस मनाया जाता है।

अंतर्राष्ट्रीय पुरुष दिवस थीम 2021

  • अंतर्राष्ट्रीय पुरुष दिवस 2021 की थीम 'पुरुषों और महिलाओं के बीच बेहतर संबंध' है। (Better relations between men and women)
  • अंतर्राष्ट्रीय पुरुष दिवस 2020 का विषय पुरुषों और लड़कों के लिए बेहतर स्वास्थ्य था। (Better health for men and boys)
  • 2019 की थीम "मेकिंग फॉर मेन एंड बॉयज" (Making For Mens and Boys) थी।

अंतर्राष्ट्रीय पुरुष दिवस का उद्देश्य

अंतर्राष्ट्रीय पुरुष दिवस पुरुषों और लड़कों को सम्मानित करने और रिश्तों में सुधार लाने और लैंगिक समानता को बढ़ावा देने के उद्देश्य से मनाया जाता है।

पुरुष मॉडल की सकारात्मक भूमिका को उजागर करने, पुरुषों के खिलाफ भेदभाव, उनके अच्छे स्वास्थ्य और कल्याण को उजागर करने और एक सुरक्षित और बेहतर दुनिया बनाने के उद्देश्य से हर साल 19 नवंबर को अंतर्राष्ट्रीय पुरुष दिवस मनाया जाता है।

पुरुष दिवस का महत्व

विश्व स्तर पर पुरुषों के स्वास्थ्य संकट पर किसी का ध्यान नहीं जाता, InternationalMensDay की वेबसाइट के मुताबिक आत्महत्या करने वाले 4 में से 3 पुरुष होते हैं। पुरुष महिलाओं की तुलना में 6 साल कम जीते हैं। काम के दौरान मरने वालों में 95% पुरुष हैं।

3 में से एक बच्चे/पुरुष घरेलू हिंसा का शिकार है। नर मादाओं की तुलना में 4 से 5 साल पहले मर जाते हैं। पुरुषों में महिलाओं की तुलना में हृदय रोग से पीड़ित होने की संभावना दोगुनी होती है।

ये आंकड़े बताते हैं कि हम पुरुषों की स्थिति से किस हद तक वाकिफ हैं। ऐसे में मेंस डे हमें संभलने का मौका देता है। अंतर्राष्ट्रीय पुरुष दिवस मुख्य रूप से पुरुषों और लड़कों के स्वास्थ्य पर ध्यान केंद्रित करने, लिंग संबंधों में सुधार, लैंगिक समानता को बढ़ावा देने और पुरुष रोल मॉडल को उजागर करने के लिए मनाया जाता है।

Editor

नमस्कार!🙏 मेरा नाम सरोज कुमार (वर्मा) है। और मुझे यात्रा करना, दूसरी जगह की संस्कृति को जानना पसंद है। इसके साथ ही मुझे ब्लॉग लिखना, और उस जानकारी को ब्लॉग के माध्यम से दूसरों के साथ साझा करना भी पसंद है।

एक टिप्पणी भेजें

और नया पुराने

अगर आपने इस लेख को पूरा पढ़ा है, तो आपका बहुत-बहुत धन्यवाद!

यदि आपको इस लेख के बारे में कोई संदेह है या आप चाहते हैं कि इसमें सुधार किया जाए, तो आप इसके लिए टिप्पणी लिख सकते हैं।

इस ब्लॉग का उद्देश्य आपको अच्छी जानकारी देना है, और उसके लिए मुझे स्वयं उस जानकारी की वास्तविकता की जाँच करनी होती है। फिर वह जानकारी इस ब्लॉग पर प्रकाशित की जाती है।

आप इसे यहां नहीं पाएंगे। उदाहरण के लिए-

  • 🛑कंटेंट के बीच में गलत कीवर्ड्स का इस्तेमाल।
  • 🛑एक ही बात को बार-बार लिखना।
  • 🛑सामग्री कम लेकिन डींगे अधिक।
  • 🛑पॉपअप के साथ उपयोगकर्ता को परेशान करना।

अगर आपको यह पोस्ट पसंद आया हो या कुछ सीखने को मिला हो तो कृपया इस पोस्ट को सोशल मीडिया फेसबुक, ट्विटर पर शेयर करें। लेख को अंत तक पढ़ने के लिए एक बार फिर से दिल से धन्यवाद!🙏