Global Handwashing Day 2022 | ग्‍लोबल हैंडवॉशिं डे क्यों मनाया जाता है? सैनिटाइजर से बेहतर क्यों है साबुन?

0

Global Handwashing Day क्यों मनाया जाता है? स्वस्थ रहने के लिए हाथ धोना कितना जरूरी है? कब और क्यों हाथ धोना चाहिए? सैनिटाइजर से बेहतर क्यों है साबुन? हाथ धोने का सही तरीका हैंडवॉश को लेकर इन बातों का रखें ध्यान, आइए जानते हैं ग्लोबल हैंडवाशिंग डे के बारे में कुछ अहम बातें.

Global Handwashing Day 2022: डॉक्टर्स के मुताबिक हमारे हाथों में कई अनदेखी गंदगी छिपी होती है, जो किसी भी चीज को छूने, उसके इस्तेमाल करने और कई तरह के रोजमर्रा के काम करने से होती है। यह गंदगी बिना हाथ धोए कुछ भी खाने-पीने से शरीर में पहुंच जाती है और कई बीमारियों को जन्म देती है।

कोरोना वायरस के चलते लोग हाथ साफ करने को लेकर पहले से ज्यादा जागरूक हो गए हैं। लोगों को बार-बार हाथ धोने और सैनिटाइज करने की सलाह दी जा रही है। हालांकि महामारी के चलते हाथ धोने से ज्यादा सैनिटाइजर का इस्तेमाल बढ़ गया है। वहीं जानकारों का कहना है कि हाथ साफ करने के लिए साबुन हमेशा सैनिटाइजर से बेहतर होता है।

कोरोना संक्रमण से बचाव का सबसे कारगर तरीका है हाथों को ठीक से धोना, जिससे संक्रमण का खतरा काफी हद तक कम हो जाता है। WHO की वैश्विक सिफारिशें COVID-19 महामारी को रोकने और नियंत्रित करने और इसे व्यवहार में लाने के लिए हाथ की स्वच्छता को लक्षित करती हैं। इसके लिए हाल ही में WHO और UNICEF के नेतृत्व में हैंड हाइजीन फॉर ऑल ग्लोबल इनिशिएटिव लॉन्च किया गया है।

toc
World Handwashing Day Kab Manaya Jata Hai?
Date हर साल 15 अक्टूबर को ग्लोबल हैंडवाशिंग डे मनाया जाता है।
Theme2021 Our Future is at Hand – Let's Move Forward Together.
विवरण सुरक्षित खाना पकाने का सीधा संबंध हाथ धोने से है। यदि भोजन ठीक से हाथ धोकर तैयार किया जाए तो बीमारियों से बचाव और बच्चों को स्वस्थ बनाना आसान हो जाता है।
A man is washing his hands with soap and water

Global Handwashing Day क्यों मनाया जाता है?

ग्लोबल हैंड वाशिंग डे की स्थापना 2008 में स्वीडन में हुई थी। दिन की शुरुआत स्वीडन में आयोजित विश्व जल सप्ताह में ग्लोबल हैंडवाशिंग पार्टनरशिप द्वारा की गई थी, जिसका उद्देश्य लोगों में साबुन से हाथ धोने के बारे में जागरूकता फैलाना था।

दुनिया भर के 120 मिलियन से अधिक बच्चों ने 70 से अधिक देशों में साबुन से हाथ धोए थे। 2008 से, ग्लोबल हैंडवाशिंग डे का उपयोग समुदाय और राष्ट्रीय नेताओं द्वारा हाथ धोने, सिंक बनाने और हाथ साफ करने के लिए किया जाता रहा है।

तब से लेकर अब तक ग्लोबल हैंडवाशिंग डे बढ़ता ही जा रहा है। ग्लोबल हैंडवाशिंग डे को स्कूलों, अंतर्राष्ट्रीय संस्थानों, नागरिक समाज संगठनों, गैर सरकारी संगठनों, निजी कंपनियों और व्यक्तियों आदि का भी समर्थन प्राप्त है।

ग्लोबल हैंडवाशिंग डे के सहयोग से हाथ धोने की आदतों पर कई शोध किए गए। साल 2011 में अमेरिकी और कनाडा के लोगों पर की गई एक रिसर्च में सामने आया कि वहां के लोग हाथ धोते वक्त साबुन का इस्तेमाल नहीं करते थे, जिससे बीमारियां बढ़ी.

ग्लोबल हैंडवाशिंग डे का लक्ष्य लोगों को हाथ धोने के फायदों के बारे में जागरूक करना है। इसके साथ ही इसका उद्देश्य लोगों में हाथ धोने की संस्कृति को विकसित करना भी है।

ग्लोबल हैंडवाशिंग डे के तहत हर साल कई कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं। बड़े पैमाने पर हाथ धोने का कार्यक्रम चलाने वाले मध्य प्रदेश का नाम 2014 में गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज किया गया था।

हैंडवॉश को लेकर इन बातों का रखें ध्यान

हैंडवॉश के बारे में कुछ खास बातें हैं जिन पर ध्यान देना जरूरी है। खाने, पकाने या दूसरों को खिलाने से पहले अपने हाथ साबुन से धोएं। साथ ही, दूसरों को अच्छी तरह से हाथ धोने का अभ्यास करने के लिए कहें। हाथ ठीक से न धोने से सांस और आंत से जुड़ी कई गंभीर बीमारियां हो सकती हैं।

हाथ धोने की आदत हो तो डायरिया और निमोनिया जैसी बीमारियों पर काफी हद तक काबू पाया जा सकता है।

अगर आप भी ग्लोबल हैंडवाशिंग डे पर अपना योगदान देना चाहते हैं तो हाथ धोने की अच्छी आदत के जरिए लोगों के सामने एक मिसाल कायम करें। दूसरों को भी बताएं कि खाना खाने से पहले हाथ धोना बहुत जरूरी है।

ध्यान रखें कि हाथ साफ न रखने से डायरिया, गैस्ट्रोएंटेराइटिस, हैजा, टाइफाइड, हेपेटाइटिस और पीलिया रोग सहित कई बीमारियां होती हैं। इसलिए बच्चों को शुरू से ही हाथ धोने का तरीका और महत्व सिखाया जाना चाहिए।

दरअसल ऐसा करने से आप कई तरह की बीमारियों से बचे रहते हैं। हर व्यक्ति को इसका पालन करना चाहिए क्योंकि ऐसा न करने से आप कई बीमारियों को आमंत्रण देते हैं।

हाथ ठीक से न धोने से सांस और आंत से जुड़ी कई गंभीर बीमारियां हो सकती हैं।

हाथ धोने की आदत हो तो डायरिया और निमोनिया जैसी बीमारियों पर काफी हद तक काबू पाया जा सकता है।

अगर आप भी ग्लोबल हैंडवाशिंग डे पर अपना योगदान देना चाहते हैं तो हाथ धोने की अच्छी आदत के जरिए लोगों के सामने एक मिसाल कायम करें। दूसरों को भी बताएं कि खाना खाने से पहले हाथ धोना बहुत जरूरी है।

ध्यान रखें कि हाथ साफ न रखने से डायरिया, गैस्ट्रोएंटेराइटिस, हैजा, टाइफाइड, हेपेटाइटिस और पीलिया रोग सहित कई बीमारियां होती हैं। इसलिए बच्चों को शुरू से ही हाथ धोने का तरीका और महत्व सिखाया जाना चाहिए।

दरअसल ऐसा करने से आप कई तरह की बीमारियों से बचे रहते हैं। हर व्यक्ति को इसका पालन करना चाहिए क्योंकि ऐसा न करने से आप कई बीमारियों को आमंत्रण देते हैं।

हमेशा दूसरों को याद दिलाएं कि खाना खाने से पहले हमेशा हाथ धोएं। अपने परिवार की दिनचर्या में हाथ धोना शामिल करें। इतना ही नहीं घरों, स्कूलों और दफ्तरों में हाथ धोने की जगह (सिंक) बनाएं।

कब और क्यों हाथ धोना चाहिए?

  • टीवी, ए.सी. रिमोट, कंप्यूटर कीबोर्ड या मोबाइल का इस्तेमाल करने के बाद हाथ धोना जरूरी है।
  • खाना खाने से पहले, खाना बनाने से पहले और दूसरों को खिलाने से पहले हाथ धोएं।
  • हर समय आंख, नाक और मुंह को छूने से पहले हाथ धोना जरूरी है।
  • खांसने, छींकने या नाक बहने के बाद हाथ धोना जरूरी है।
  • शौच के बाद हाथों को अच्छी तरह से साफ करना चाहिए।

नहीं तो हाथ में मौजूद बैक्टीरिया कई बीमारियों का कारण बन सकते हैं। यह आदत बड़ों के साथ-साथ बच्चों में भी डालनी चाहिए।

एक रिपोर्ट के मुताबिक दुनिया भर में ऐसी कई बीमारियां हैं, जो सिर्फ इसलिए होती हैं क्योंकि गंदे हाथों से खाना खाया जाता है, जो बाद में संक्रामक बीमारी का कारण बनी। इसलिए हाथ धोना बहुत जरूरी है। चूंकि हाथ आपकी दैनिक गतिविधियों में सक्रिय भूमिका निभाते हैं, इसलिए उन्हें साफ रखना महत्वपूर्ण है।

स्वस्थ रहने के लिए हाथ धोना कितना जरूरी है?

कोरोना काल में हाथ धोने का महत्व और भी बढ़ गया है। खाना खाने से पहले, खाना खाने के बाद और किसी को खाना खिलाने से पहले हाथ जरूर धोएं, तभी आप और आपका परिवार बीमारियों से सुरक्षित रह सकता है।

दरअसल हम दिन भर काम करते हैं। कई बार ऐसा होता है कि हम बिना हाथ धोए ही कुछ खा-पी लेते हैं। हम घर में कहीं भी रहते हैं, बाहर या ऑफिस में, तो ज्यादातर गंदगी हथेलियों में आती रहती है लेकिन हमें पता नहीं चलता।

उसी तरह अगर हम खाने से पहले अपने हाथों को ठीक से साफ नहीं करते हैं और गंदे हाथों में वायरस या कीटाणु हो जाते हैं तो हम कई बीमारियों के शिकार हो सकते हैं।

इसलिए जरूरी है कि खाने से पहले ही नहीं बल्कि खाने के बाद भी हाथों को अच्छे से धोना चाहिए। अगर हमें बिना हाथ धोए खाने की आदत है तो ऐसा करने से हम अपनी सेहत को काफी नुकसान पहुंचाते हैं।

खाना पकाने से पहले, परोसने और खाने से पहले और शौच के बाद हाथ धोना चाहिए। हाथों को ठीक से धोना जरूरी है। हाथों को साफ रखने से कई तरह के संक्रमण और बीमारियों के खतरे को कम किया जा सकता है। हाथों को साबुन या हैंडवाश से अच्छी तरह साफ करना चाहिए।

The picture shows 8 ways to clean hands

सैनिटाइजर से बेहतर क्यों है साबुन?

साबुन हाथों से बैक्टीरिया और वायरस को नष्ट करता है। साबुन से हाथ धोने के बाद त्वचा रूखी हो जाती है और इससे हाथों पर कीटाणु नहीं लग पाते और बीमार पड़ने की संभावना कम हो जाती है।

साबुन से हाथ धोने के फायदे

साबुन तुरंत कीटाणुओं को मारने का काम करता है। खांसने और छींकने के कारण बूंदें किसी भी सतह या सामग्री पर कई घंटों तक रहती हैं और हाथों के जरिए हमारे शरीर में प्रवेश करती हैं। साबुन इन रोगाणुओं की परत को खत्म करने में मदद करता है.

साबुन में एम्फीफाइल्स पदार्थ पाया जाता है जो वायरस को निष्क्रिय कर देता है। स्वास्थ्य विशेषज्ञों का कहना है कि सार्वजनिक स्थानों पर बार साबुन का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। साबुन केवल घरेलू उपयोग के लिए रखा जाना चाहिए और त्वचा संक्रमण वाले लोगों को एक अलग साबुन का उपयोग करना चाहिए।

सैनिटाइज़र का उपयोग

स्वास्थ्य विशेषज्ञों का कहना है कि सैनिटाइजर का इस्तेमाल तभी करना चाहिए जब आपके पास हाथ धोने (सिंक) की सुविधा न हो। अल्कोहल युक्त सैनिटाइज़र लिपिड मेम्ब्रेन को नष्ट कर देते हैं लेकिन नॉन एनवलप्ड वायरस जैसे नोरोवायरस और राइनोवायरस के खिलाफ प्रभावी नहीं होते हैं.

स्वास्थ्य विशेषज्ञों का कहना है कि हैंड सैनिटाइजर को असरकारक तभी माना जाता है। जब इसमें अल्कोहल की मात्रा 60 प्रतिशत से अधिक होती है और यह आपके हाथों और पूरी उंगलियों पर अच्छी तरह से लगाया जाता है। इसलिए सैनिटाइजर तभी लगाएं जब आपके पास हाथ धोने की सुविधा उपलब्ध न हो।

सैनिटाइज़र अपने त्वरित और सुविधाजनक होने के कारण अधिक लोकप्रिय हैं।

हाथ धोने का सही तरीका

इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप गर्म या ठंडे पानी का इस्तेमाल करते हैं। साबुन और पानी से हाथ धोना ज्यादा प्रभावी है क्योंकि यह त्वचा से कीटाणुओं को नष्ट करने का काम करता है। हाथ में साबुन लगाने के बाद इसे 20 सेकेंड तक रगड़ें, फिर हाथों को अच्छी तरह धोकर तौलिए से सुखा लें।

ग्लोबल हैंडवाशिंग डे का मुख्य उद्देश्य।

ग्लोबल हैंडवाशिंग डे का उद्देश्य सभी समाजों में साबुन से हाथ धोने की संस्कृति को बढ़ावा देना और उसका समर्थन करना है।

ग्लोबल हैंड वाशिंग डे का खास मकसद हर देश में साबुन से हाथ धोने का महत्व बताकर लोगों को हाथ धोने के फायदों के बारे में जागरूक करना है.

यह अभियान बाल मृत्यु दर, सांस की बीमारियों और दस्त को नियंत्रित करने के लिए शुरू किया गया था।

डायरिया से होने वाली मौतों में 50 फीसदी तक की कटौती की जा सकती है।

जिससे हम कई तरह की बीमारियों जैसे कोरोना वायरस, डायरिया और निमोनिया आदि से सुरक्षित रह सकते हैं।

अगर आप भी ग्लोबल हैंड वाशिंग डे पर अपना योगदान देना चाहते हैं तो लोगों के सामने हाथ धोने के फायदे बताएं और उन्हें हाथ धोने के लिए प्रेरित करें।

एक टिप्पणी भेजें

0टिप्पणियाँ
एक टिप्पणी भेजें (0)

अगर आपने इस लेख को पूरा पढ़ा है, तो आपका बहुत-बहुत धन्यवाद!

यदि आपको इस लेख के बारे में कोई संदेह है या आप चाहते हैं कि इसमें सुधार किया जाए, तो आप इसके लिए टिप्पणी लिख सकते हैं।

इस ब्लॉग का उद्देश्य आपको अच्छी जानकारी देना है, और उसके लिए मुझे स्वयं उस जानकारी की वास्तविकता की जाँच करनी होती है। फिर वह जानकारी इस ब्लॉग पर प्रकाशित की जाती है।

आप इसे यहां नहीं पाएंगे। उदाहरण के लिए-

  • 🛑कंटेंट के बीच में गलत कीवर्ड्स का इस्तेमाल।
  • 🛑एक ही बात को बार-बार लिखना।
  • 🛑सामग्री कम लेकिन डींगे अधिक।
  • 🛑पॉपअप के साथ उपयोगकर्ता को परेशान करना।

अगर आपको यह पोस्ट पसंद आया हो या कुछ सीखने को मिला हो तो कृपया इस पोस्ट को सोशल मीडिया फेसबुक, ट्विटर पर शेयर करें। लेख को अंत तक पढ़ने के लिए एक बार फिर से दिल से धन्यवाद!🙏

#buttons=(Accept !) #days=(20)

Our website uses cookies to enhance your experience. Learn More
Accept !