Vishwakarma Puja क्यों मनाया जाता है | विश्वकर्मा जयन्ती कब मनाई जाती है | ब्रह्मा जी के पुत्र।

Vishwakarma Puja क्यों मनाया जाता है, विश्वकर्मा जयन्ती कब मनाई जाती है? विश्वकर्मा पूजा कैसे की जाती है? विश्वकर्मा कितने प्रकार के होते हैं? ब्रह्मा जी के पुत्र। विश्वकर्मा पूजा की कथा लेख को अंत तक पढ़ें, इन सभी सवालों के जवाब दिए गए हैं।

विश्वकर्मा पूजा हर साल एक ही दिन यानी 17 सितंबर को ही क्यों मनाई जाती है। इसके पीछे का कारण क्या है। तो चलिए इस लेख में हम आपको आपके इस सवाल का जवाब देते हैं।

हिंदू धर्म में हम सभी हर त्योहार को तिथि के अनुसार मनाते हैं। विश्वकर्मा जयंती उन त्योहारों में से एक है जो हमेशा 17 सितंबर को मनाए जाते हैं। इस दिन पूजा करने से व्यापारियों को विशेष फल की प्राप्ति होती है।

पूरे देश में वास्तुकला के अद्वितीय गुरु भगवान विश्वकर्मा की जयंती मनाई जाती है। यह मुख्य रूप से कर्नाटक, असम, पश्चिम बंगाल, बिहार, झारखंड, ओडिशा और त्रिपुरा आदि राज्यों में मनाया जाता है।

{tocify} $title={Table of Contents}
Vishwakarma Puja Kab Manaya Jata Hai?
Date हर साल 17 सितंबर को
विवरण यह त्योहार आमतौर पर कारखानों और औद्योगिक क्षेत्रों में मनाया जाता है। विश्वकर्मा भगवन को संसार का निर्माता और देवताओं का वास्तुकार माना जाता है।
सवारी भगवान विश्वकर्मा की सवारी हाथी है। इसलिए हाथियों की भी पूजा की जाती है।
भगवान विश्वकर्मा

विश्वकर्मा जयंती क्यों मनाई जाती है.

वैसे तो वर्तमान में बड़े-बड़े भवन निर्माण का कार्य इंजीनियर करते हैं, लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि सतयुग में स्वर्गलोक, त्रेतायुग में लंका, द्वापर में द्वारका और कलियुग में जगन्नाथ मंदिर का निर्माण किसने कराया?

भगवान विश्वकर्मा को एक वास्तुकार के रूप में पूजा की जाती है, तभी इस दिन औजारों, मशीनों और वाहनों की भी पूजा की जाती है।

हिंदू मान्यताओं के अनुसार प्राचीन काल में भगवान विश्वकर्मा ने देवताओं के महल और हथियारों का निर्माण कराया था। उन्हें सृष्टि का देवता कहा जाता है।

मान्यता है कि भगवान कृष्ण की द्वारका नगरी, शिव का त्रिशूल, पांडवों का इंद्रप्रस्थ नगर, पुष्पक विमान, इंद्र का व्रज, स्वर्ण लंका भी भगवान विश्वकर्मा ने ही बनवाए थे।

इसलिए इसी श्रद्धा से किसी भी कार्य की रचना और निर्माण से जुड़े लोग भगवान विश्वकर्मा की पूजा करते हैं।

भगवान विश्वकर्मा के जन्मदिन के अवसर पर आज लोग अपने कार्यालयों, कारखानों और मशीनों की पूजा करते हैं। इसके साथ ही लोग रोजगार या अपने पेशेवर जीवन में इस्तेमाल होने वाले हथियारों और मशीनों की पूजा भी करते हैं।

विश्वकर्मा पूजा की कथा.

प्रौद्योगिकी और विज्ञान के जनक, निर्माता, शिल्पकार, भगवान विश्वकर्मा की पूजा करने से व्यक्ति को प्रगति मिलती है। हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार, धार्मिक प्रथाओं वाला एक सारथी अपनी पत्नी के साथ काशी में रहता था।

वह अपने काम में पारंगत था, लेकिन कोशिश करने और जगह-जगह जाने के बाद भी उसे खाने से ज्यादा पैसा नहीं मिल पाता था। वही पत्नी भी संतान न होने को लेकर काफी परेशान रहती थी। दोनों संत संतों के पास संतान प्राप्ति के लिए जाते थे, लेकिन उनकी मनोकामना पूरी नहीं होती थी।

तब एक पड़ोसी ब्राह्मण ने सारथी की पत्नी से कहा, तुम भगवान विश्वकर्मा की शरण में जाओ, तुम्हारी मनोकामना अवश्य पूरी होगी और अमावस्या के दिन उपवास करके भगवान विश्वकर्मा की कथा सुनें।

इसके बाद सारथी और उनकी पत्नी ने अमावस्या पर भगवान विश्वकर्मा की पूजा की। जिससे उन्हें धन और एक पुत्र की प्राप्ति हुई और दोनों सुखी जीवन व्यतीत करने लगे। तभी से विश्वकर्मा की पूजा बड़े धूमधाम से की जाने लगी।

विश्वकर्मा पूजा कैसे की जाती है?

उनकी मूर्ति स्थापित की जाती है। पुराणों में उनके विभिन्न चित्रों का उल्लेख है। इस दिन इंजीनियर अपने कार्य स्थल, निर्माण स्थल (भूमि) की पूजा करते हैं। इस दिन मजदूर वर्ग अपने औजारों की पूजा करता है। आज उद्योगों में छुट्टी रहती है। इस दिन बुनकर, बढ़ई, हर तरह के शिल्पी भगवान विश्वकर्मा की पूजा करते हैं। इस दिन कई स्थानों पर यज्ञ किए जाते हैं।

श्री विश्वकर्मा भगवान की जन्म

पौराणिक कथा के अनुसार सृष्टि के प्रारम्भ में भगवान विष्णु जी क्षीर सागर में शेषशय्या पर प्रकट हुए। भगवान विष्णु जी के नाभि-कमल से चतुर्मुख भगवान ब्रह्मा जी दृष्टिगोचर हुए। भगवान ब्रह्मा जी के पुत्र धर्म तथा धर्म के पुत्र वास्तुदेव हुए।

पौराणिक ग्रंथों के अनुसार धर्म की वस्तु नामक स्त्री से उत्पन्न वास्तु सातवें पुत्र थे जो शिल्पकला के प्रवर्तक थे। वास्तुदेव की अंगिरसी नामक पत्नी से विश्वकर्मा जी उत्तपन्न हुए। पिता की भांति विश्वकर्मा जी वास्तुकला के अद्वितीय आचार्य बने।

विश्वकर्मा कितने प्रकार के होते हैं?

विश्वकर्मा एक हिंदू भगवान हैं। विश्वकर्मा भगवान आमतौर पर इसमें पांच जातियों की गणना की जाती है- 1. मिस्त्री, 2 लोहार, 3 कुम्हार, 4 सोनार और 5 मूर्तिकार।

ऋषि मनु विष्वकर्मा (लोहार)- उन्हें "सानग गोत्र" कहा जाता है। यह लोहे के काम को गति प्रदान करता है। उनके वंशज लोहार कहलाते हैं।

सनातन ऋषि माया (मिस्त्री) - ये सनातन गोत्र के कहे जाते हैं। यह बढ़ई के काम करता है। उनके वंशज काष्टकार के नाम से जाने जाते हैं।

अहभुन ऋषि तवष्ठ (कुम्हार) - उनका दूसरा नाम तवष्ठ है जिनका गोत्र अहभुन है। इनके वंशज ताम्र कहलाते हैं।

प्रयत्न ऋषि शिल्पी (मूर्तिकार)- ईनका गोत्र प्रयत्न है। उनके वंशज शिल्प कौशल के स्वामी हैं उन्हें मूर्तिकार भी कहा जाता है।

देवज्ञ ऋषि (सोनार) - उनका गोत्र सूर्पन है। उनके वंशज सुनार के नाम से जाने जाते हैं। वे चांदी और सोने की धातु के शिल्प करते हैं।

ब्रह्मा जी के पुत्र।

पहले चार पुत्रों को सनत कुमार कहा गया। उनका जन्म तब हुआ था जब इंद्रियों का विकास भी नहीं हुआ था। उनके बिना मन भौतिक संसार को नहीं जान सकता।

उनमें कोई उत्साह नहीं है। ऐसा मन शुद्ध और शांत होता है। तब ब्रह्मा ने काम करने के लिए इंद्रियों की आवश्यकता को देखकर दस और बच्चे पैदा किए, जिन्हें दस प्रजापति कहा गया।

इनमें से पांच पांच इंद्रियों-आंख, कान, नाक, जीभ और त्वचा का प्रतिनिधित्व करते थे और अन्य पांच, पांच इंद्रियों-हाथ, पैर, मुंह, आंत्र और जननांग अंगों का प्रतिनिधित्व करते थे।

मन से मारिचि, नेत्रों से अत्रि, मुख से अंगिरस, कानों से पुलस्त्य, नाभि से पुलह, हाथों से कृतु, चर्चा से भृगु, प्रयाण से वशिष्ठ, अंगुष्ठ से दक्ष, छाया से कंदर्भ, इच्छा से सनक, सनन्दन, सनातन एवं सनत कुमार, शरीर से स्वायंभुव मनु एवं शतरुपा तथा वर्तमान से चित्रगुप्त इन चौदह संतानों का भी उल्लेख मिलता है। अन्य वर्णनों में उनके 59 पुत्रों की चर्चा है।

ब्रह्मा जी की पुत्री कौन थी?

हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार सरस्वती ब्रह्मा जी की पुत्री थीं। और ब्रह्मा जी ने ही सरस्वती को अपनी सक्तियों से प्रगत किया था। यह भी पढ़ें:- क्यों मनाई जाती है सरस्वती पूजा या बसंत पंचमी?

Editor

नमस्कार!🙏 मेरा नाम सरोज कुमार (वर्मा) है। और मुझे यात्रा करना, दूसरी जगह की संस्कृति को जानना पसंद है। इसके साथ ही मुझे ब्लॉग लिखना, और उस जानकारी को ब्लॉग के माध्यम से दूसरों के साथ साझा करना भी पसंद है।

एक टिप्पणी भेजें

और नया पुराने

अगर आपने इस लेख को पूरा पढ़ा है, तो आपका बहुत-बहुत धन्यवाद!

यदि आपको इस लेख के बारे में कोई संदेह है या आप चाहते हैं कि इसमें सुधार किया जाए, तो आप इसके लिए टिप्पणी लिख सकते हैं।

इस ब्लॉग का उद्देश्य आपको अच्छी जानकारी देना है, और उसके लिए मुझे स्वयं उस जानकारी की वास्तविकता की जाँच करनी होती है। फिर वह जानकारी इस ब्लॉग पर प्रकाशित की जाती है।

आप इसे यहां नहीं पाएंगे। उदाहरण के लिए-

  • 🛑कंटेंट के बीच में गलत कीवर्ड्स का इस्तेमाल।
  • 🛑एक ही बात को बार-बार लिखना।
  • 🛑सामग्री कम लेकिन डींगे अधिक।
  • 🛑पॉपअप के साथ उपयोगकर्ता को परेशान करना।

अगर आपको यह पोस्ट पसंद आया हो या कुछ सीखने को मिला हो तो कृपया इस पोस्ट को सोशल मीडिया फेसबुक, ट्विटर पर शेयर करें। लेख को अंत तक पढ़ने के लिए एक बार फिर से दिल से धन्यवाद!🙏