Onam Festival Date Kab Se Shuru Hai | ओणम त्योहार क्यों मनाया जाता है? | कैसे मनाया जाता है? | Story of Raja Bali

नमस्कार, आज हम बताने जा रहे हैं कि केरल में तिरुवनंतपुरम का प्रसिद्ध त्योहार ओणम का त्योहार क्यों मनाया जाता है और Onam Festival Date कब है?

भारत अनेक संस्कृतियों का जन्मस्थान है। लोग यहां अलग-अलग त्योहार मनाते हैं और ऐसा ही एक त्योहार है ओणम, जो विशेष रूप से केरल में मनाया जाता है, लेकिन यह अन्य राज्यों में भी मनाया जाता है।

  • यह विशेष रूप से खेतों में अच्छी फसल और कटाई की खुशी में मनाया जाता है।
  • ऐसा माना जाता है कि इस दिन राजा बलि धरती पर लोगो को आशीर्वाद देने के लिए आते हैं।

इस खुशी के लिए लोग श्रवण देवता और देवी की पूजा करते हैं। केरल में, यह त्योहार दशहरे के समान है. ओणम हर साल श्रवण शुक्ल की त्रयोदशी को मनाया जाता है। जिसमें लोग मिलकर खुशियां मनाते हैं।

Onam Festival Kab Se Shuru Hai 2021 me?
Start Date Thursday, 12 August
End Date Monday, 23 August को
विवरण ओणम केरल का एक मलयाली त्योहार है। यह त्यौहार 10 दिनों तक मनाया जाता है और घरों को फूलों और रंगोली से सजाया जाता है।
Onam Festival Snake Boat Race

Onam Festival कैसे मनाया जाता है?

इस पर्व की विशेषता यह है कि लोग मंदिरों में नहीं घरों में पूजा करते हैं। ओणम केरल का एक मलयाली त्योहार है। यह त्यौहार 10 दिनों तक मनाया जाता है और घरों को फूलों और रंगोली से सजाया जाता है।

इस दिन महिलाएं कई प्रकार के भोजन बनाती हैं स्नान आदि करने के बाद. 

मलयाली लोग जहां भी होते हैं इस त्योहार को बड़ी धूमधाम से मनाते हैं।

इस मौके पर केरल में कई कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं, जिनमें से एक है बोट रेस। इस दौरान नौका दौड़ के साथ कथकली नृत्य और गायन भी होता है। फसल कटने की खुशी में लोगों के मन में एक नया उत्साह, नई आशा और नया विश्वास होता है।

केरल में इन दिनों चाय, अदरक, इलायची, काली मिर्च और धान की कटाई की जाती है और लोग इस त्योहार को मनाते हैं और अच्छी फसल की खुशी में आपस में खुशियां बांटते हैं।

ओणम त्योहार क्यों मनाया जाता है?

वामन पुराण की कथा के अनुसार, किसी समय पृथ्वी पर राजा बलि का शासन था और प्रजा सुखी और समृद्ध थी। एक बार राजा बलि ने विश्व विजेता बनने के लिए एक यज्ञ किया, तभी एक बरमचारी उनके द्वार पर आया और तीन पैर भूमि का दान मांगा, और राजा बलि ने वचन दिया की मै तीन कदम भूमि आपको दान करूँगा।

क्योंकि राजा बलि अपने वचन पर बहुत दृढ़ थे। वरदान पाकर उस ब्रह्मचारी ने अपना आकार बदल लिया और एक ओर से पृथ्वी और दूसरी ओर से आकाश को नाप लिया, तीसरा कदम रखने के लिए कोई जगह नहीं बची, तब राजा बलि ने विनम्रतापूर्वक बोले हे प्रभु आप अपना तीसरा कदम मेरे शिर पर रखे, और राजा बलि अपने शिष्य को चरणों में आगे कर दिया। परिणामस्वरूप, राजा बलि पाताल लोक में चला गया।

वह ब्रह्मचारी कोई और नहीं बल्कि खुद भगवान विष्णु थे, बाद में भगवान विष्णु ने वरदान दिया कि राजा बलि साल में एक बार अपनी प्रजा से मिलने धरती पर आएंगे। भारतीय पौराणिक कथाओं के अनुसार, राजा बलि ओणम के त्योहार पर केरल आते हैं और दस दिनों तक रहते हैं, उनकी याद में ओणम का त्योहार मनाया जाता है। यह पर्व ओणम के पर्व श्रवण शुक्ल की त्रयोदशी की शुरुआत को मनाया जाता है।

इसे भी जरूर पढ़े. 👉 रक्षाबंधन और दिवाली त्यौहार भी राजा बलि के कथा से सम्बंधित है.

Editor

नमस्कार!🙏 मेरा नाम सरोज कुमार (वर्मा) है। और मुझे यात्रा करना, दूसरी जगह की संस्कृति को जानना पसंद है। इसके साथ ही मुझे ब्लॉग लिखना, और उस जानकारी को ब्लॉग के माध्यम से दूसरों के साथ साझा करना भी पसंद है।

एक टिप्पणी भेजें

और नया पुराने

अगर आपने इस लेख को पूरा पढ़ा है, तो आपका बहुत-बहुत धन्यवाद!

यदि आपको इस लेख के बारे में कोई संदेह है या आप चाहते हैं कि इसमें सुधार किया जाए, तो आप इसके लिए टिप्पणी लिख सकते हैं।

इस ब्लॉग का उद्देश्य आपको अच्छी जानकारी देना है, और उसके लिए मुझे स्वयं उस जानकारी की वास्तविकता की जाँच करनी होती है। फिर वह जानकारी इस ब्लॉग पर प्रकाशित की जाती है।

आप इसे यहां नहीं पाएंगे। उदाहरण के लिए-

  • 🛑कंटेंट के बीच में गलत कीवर्ड्स का इस्तेमाल।
  • 🛑एक ही बात को बार-बार लिखना।
  • 🛑सामग्री कम लेकिन डींगे अधिक।
  • 🛑पॉपअप के साथ उपयोगकर्ता को परेशान करना।

अगर आपको यह पोस्ट पसंद आया हो या कुछ सीखने को मिला हो तो कृपया इस पोस्ट को सोशल मीडिया फेसबुक, ट्विटर पर शेयर करें। लेख को अंत तक पढ़ने के लिए एक बार फिर से दिल से धन्यवाद!🙏