World Earth Day Kab Manaya Jata Hai? | विश्व पृथ्वी दिवस क्यों मनाया जाता है? | PM10 Pollution and धरती से जुड़ी ये दिलचस्प बातें

0

World Earth Day 2023: विश्व पृथ्वी दिवस क्यों मनाया जाता है? PM10 और 2.5 Pollution Kya hai, सीनेटर गेराल्ड नेल्सन के बारे में और पृथ्वी से जुड़ी इन दिलचस्प बातों के बारे में इस लेख में पढेंगे।

{tocify} $title={Table of Contents}

विश्व पृथ्वी दिवस 22 अप्रैल को दुनिया भर में मनाया जाता है। विश्व पृथ्वी दिवस के खास मौके पर लोगों को पर्यावरण और वृक्षारोपण के प्रति जागरूक किया जाता है. पृथ्वी दिवस के अवसर पर विशेष छोटे बच्चों को स्कूलों में बेहतर भविष्य के लिए पर्यावरण के बारे में समझाया जाता है। आइए जानते हैं इसका इतिहास और इससे जुड़ी अहम जानकारियां।

toc
World Earth Day Kab Manaya Jata Hai?
Date हर साल 22 April को
विवरण पृथ्वी दिवस पहली बार 1970 में मनाया गया था।
Pollution इसके लिए मनुष्य जिम्मेदार है। ग्लोबल वार्मिंग के रूप में जिसका हम आज सामना कर रहे हैं।

विश्व पृथ्वी दिवस क्यों मनाया जाता है?

पृथ्वी दिवस हर साल 22 अप्रैल को मनाया जाता है। यह उत्तरी गोलार्ध के वसंत और दक्षिणी गोलार्ध की शरद ऋतु के प्रतीक के रूप में हर साल जलवायु संकट और पर्यावरण समस्या की ओर ध्यान आकर्षित करने के लिए मनाया जाता है। पृथ्वी दिवस पहली बार 1970 में मनाया गया था।

पृथ्वी दिवस मनाने का मुख्य उद्देश्य लोगों को पृथ्वी और पर्यावरण की सुरक्षा के प्रति जागरूक करना है। इस समय ग्लेशियर पिघल रहे हैं, ग्लोबल वार्मिंग बढ़ रही है और प्रदूषण भी काफी बढ़ रहा है। ऐसे में पृथ्वी की गुणवत्ता, उर्वरता और महत्व को बनाए रखने के लिए हमें पर्यावरण और पृथ्वी को सुरक्षित रखने की जरूरत है।

पृथ्वी के वायुमंडल में हो रहे परिवर्तनों के लिए कौन जिम्मेदार है?

  • पृथ्वी पर कई किलोमीटर तक उत्तरी ध्रुव की ठोस बर्फ का पिघलना
  • सूर्य की पराबैंगनी किरणों को पृथ्वी तक पहुँचने से रोकने वाले ओजोन परत में छेद
  • भयंकर तूफान, सुनामी और कई अन्य प्राकृतिक आपदाएँ।

इसके लिए मनुष्य जिम्मेदार है। ग्लोबल वार्मिंग के रूप में जिसका हम आज सामना कर रहे हैं। अगर ये आपदाएं इसी तरह धरती पर होती रहीं तो वह दिन दूर नहीं जब धरती से वनस्पतियों और जीवों का अस्तित्व खत्म हो जाएगा।

वैश्विक और क्षेत्रीय स्तर पर पृथ्वी की जलवायु में परिवर्तन चिंता का विषय बना हुआ है। ये परिवर्तन पृथ्वी के भीतर उत्तल उथल-पुथल के कारण और पृथ्वी के निवासियों द्वारा भी हो रहे हैं, जो जलवायु पर प्रतिकूल प्रभाव डालते हैं।

इसका कारण बड़ी मिलों और फैक्ट्रियों की चिमनियों से निकलने वाला प्रदूषणकारी धुंआ है। इससे पृथ्वी की ओजोन परत को नुकसान हो रहा है। ग्रीनहाउस गैसों के इस बेलगाम उत्सर्जन ने पूरी दुनिया को अपनी चपेट में ले लिया है और पृथ्वी पर जीवन के लिए एक गंभीर समस्या बनती जा रही है।

पृथ्वी के अंदर होने वाली घटनाओं पर हमारा नियंत्रण नहीं है, लेकिन हम ऐसी गतिविधियों पर अंकुश लगा सकते हैं जो हमारे नियंत्रण में हैं। इस गंभीर समस्या का ठोस समाधान खोजने के लिए धन के स्तर पर कई प्रयास किए गए हैं।

पृथ्वी के वायुमंडल में साफ़ रखने के तरीके।

पृथ्वी का तापमान जीवन के लिए उचित। यह ओजोन परतों से घिरा हुआ है, जो जीवित प्राणियों को सूर्य के हानिकारक विकिरणों से बचाती है। इसलिए पृथ्वी पर जीवन संभव है। और हम सबको मिलकर धरती की हरियाली बरकरार रखनी है, धरती के लिए ही नहीं बल्कि अपने बच्चों के भविष्य के लिए भी हमें धरती के पर्यावरण को स्वच्छ रखना है।

👉वनों की अंधाधुंध कटाई को रोका जाना चाहिए।
👉प्रदूषण को रोकने का सबसे अच्छा तरीका जनसंख्या को नियंत्रित करना है।
👉जितना हो सके हरियाली को बढ़ावा देना चाहिए। जगह-जगह पेड़-पौधे लगाने चाहिए।
👉वाहनों के प्रदूषण को रोकने के लिए उनके लिए सी-एनजी। उपयोग अनिवार्य किया जाए।
👉प्रदूषित पानी और प्रदूषणकारी फैक्ट्रियों के कचरे को संसाधित करने की व्यवस्था की जानी चाहिए।
👉जहरीली गैस, रसायन और सीवेज पैदा करने वाली फैक्ट्रियां निवास स्थान से दूर खुले स्थानों पर स्थापित की जानी चाहिए।
👉प्राकृतिक खाद के प्रयोग से भूमि प्रदूषण को रोका जा सकता है। इसके लिए सभी नागरिकों को मिलकर काम करना होगा।
👉इसके साथ ही शहरों से सीवेज निकालने वाले नालों को जमीन के नीचे गाड़ देना चाहिए ताकि वे पर्यावरण को प्रदूषित न करें।

इन प्रयासों के अलावा वैज्ञानिक भी अपने स्तर पर ऐसी तकनीक विकसित करने में लगे हुए हैं जो इस जोखिम को कम करती हैं, जिसमें ऐसी तकनीक विकसित करना भी शामिल है जिसमें हानिकारक गैसों को तरल रूप में परिवर्तित करके जमीन के नीचे बने विशेष भंडारण गृहों में दबाया जाएगा।

रोग की रोकथाम के लिए यह आवश्यक है कि यदि इन हानिकारक गैसों के उत्सर्जन को पूरी तरह से समाप्त नहीं किया जा सकता है, तो कम से कम इनकी मात्रा को कम से कम किया जाना चाहिए ताकि इसके दुष्प्रभावों को सीमित किया जा सके।

World Earth Day का इतिहास

World Earth Day Image

अमेरिकी सीनेटर गेलॉर्ड नेल्सन ने इसे पर्यावरण शिक्षा के रूप में स्थापित किया। तभी से पृथ्वी दिवस मनाने की प्रथा शुरू हुई। वर्ष 1970 से शुरू होकर इस दिन को दुनिया भर के 195 से अधिक देशों द्वारा मनाया जाता है।

सीनेटर गेराल्ड नेल्सन के बारे में

विश्व पृथ्वी दिवस की स्थापना 1970 में अमेरिकी सीनेटर गेराल्ड नेल्सन ने पर्यावरण शिक्षा के रूप में की थी। 1970 से 1990 तक यह पूरी दुनिया में फैल गया। 1990 से इसे अंतर्राष्ट्रीय दिवस के रूप में मनाया जाने लगा और 2009 में संयुक्त राष्ट्र ने भी 22 अप्रैल को विश्व पृथ्वी दिवस के रूप में मनाने की घोषणा की।

गेलॉर्ड एंटोन नेल्सन एक अमेरिकी राजनेता और विस्कॉन्सिन के पर्यावरणविद् थे जिन्होंने संयुक्त राज्य के सीनेटर और गवर्नर के रूप में कार्य किया। वह पृथ्वी दिवस के संस्थापक थे, जिसने पर्यावरण सक्रियता की एक नई लहर शुरू की।

Information from Wikipedia

  • Born: June 4, 1916, Clear Lake, Wisconsin, United States
  • Died: 3 July 2005, Kensington, Maryland, United States
  • Spouse: Carrie Lee Dotson (m. 1947)
  • Party: Democratic Party
  • Children: Tia Nelson, Jeffrey Nelson, Gaylord Nelson
  • Award: Presidential Medal of Freedom

धरती से जुड़ी ये दिलचस्प बातें

इस धरती पर कुछ अजीबोगरीब चीजें हैं जो एक चमत्कार की तरह लगती हैं, वहीं कुछ चीजें ऐसी भी हैं जो हमारी गलतियों के कारण नष्ट हो गई हैं। पृथ्वी के घूमने की गति से लेकर उसके तापमान तक हर चीज में कुछ ऐसा है जिसे जानकर आप हैरान हो सकते हैं। धरती की गहराइयों में कई ऐसी बातें छिपी हैं जो बहुत कम लोग जानते हैं।

  • पृथ्वी 1000 मील प्रति घंटे की रफ्तार से घूम रही है।
  • पृथ्वी का निर्माण लगभग 4.54 अरब वर्ष पूर्व हुआ था।
  • पृथ्वी के पास केवल एक चंद्रमा है जबकि बृहस्पति के 67 चंद्रमा हैं।
  • ऐसा अनुमान है कि पृथ्वी पर जीवन लगभग 4.1 अरब साल पहले मौजूद था।
  • अटलांटिक महासागर के बरमूडा ट्राएंगल पर गुरुत्वाकर्षण बल अधिक बताया जाता है।
  • 6 अरब किलोमीटर की दूरी से देखने पर पृथ्वी एक नीले बिंदु के रूप में दिखाई देती है।
  • यह भी दिलचस्प है कि पृथ्वी पर 95% से अधिक महासागरों के बारे में जानकारी अभी भी स्पष्ट नहीं है।
  • हर दिन 100 से 300 मीट्रिक टन कॉस्मिक धूल पृथ्वी पर आती है। ये धूल अंतरिक्ष में मौजूद हैं और पूरे ग्रह पर हैं।
  • पृथ्वी पर 70% से अधिक पानी है लेकिन यह जानकर आश्चर्य होगा कि पृथ्वी पर पानी वजन के हिसाब से केवल 1% है।
  • पृथ्वी के घूमने की गति धीरे-धीरे धीमी हो रही है। इसका अर्थ यह हुआ कि अब से लगभग 14 करोड़ वर्षों में पृथ्वी पर एक दिन की अवधि 25 घंटे होगी।
  • पृथ्वी के बारे में एक और दिलचस्प तथ्य यह है कि हम सभी हमेशा चंद्रमा का एक ही पक्ष देखते हैं। ऐसा इसलिए है क्योंकि चंद्रमा पृथ्वी के साथ घूमता रहता है।
  • पृथ्वी पर महासागरों में ज्वार का कारण पृथ्वी और चंद्रमा के बीच गुरुत्वाकर्षण बल है। चंद्रमा भी अपने गुरुत्वाकर्षण खिंचाव के साथ समुद्रों और झीलों से पानी खींचता है।
  • कनाडा के हडसन बे क्षेत्र में पृथ्वी का गुरुत्वाकर्षण बल अन्यत्र की तुलना में कम है। इस पर वैज्ञानिकों ने कई अध्ययन किए हैं, लेकिन ऐसा क्यों है इस पर किसी को यकीन नहीं है।

Pollution PM 10 Kya hai? and 2.5

मानव जीवन में प्रदूषण की समस्या दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रही है। जैसे-जैसे मानव विकसित हो रहा है यह समस्या बढ़ती जा रही है। यह कहना गलत नहीं होगा कि प्रदूष्ण जिस गति के साथ वृद्धि की है, मानव जीवन के अस्तित्व पर सवाल उठ गया है।

Pollution PM 10 and PM 2.5 Size Compare With Humain Hair

यह वातावरण में मौजूद PM2.5 और PM10 कण स्वास्थ्य को बहुत नुकसान पहुंचाते हैं। जब हवा में इन कणों का स्तर बढ़ जाता है, तो सांस लेने में कठिनाई, आंखों में जलन आदि होते हैं।

पीएम को पर्टिकुलेट मैटर या पार्टिकल पॉल्यूशन भी कहा जाता है, जो वातावरण में मौजूद ठोस कणों और तरल बूंदों का मिश्रण है। हवा में कण इतने छोटे होते हैं कि आप नग्न आंखों से नहीं देख सकते हैं। कुछ टुकड़े इतने छोटे होते हैं कि उन्हें केवल इलेक्ट्रॉनिक माइक्रोस्कोप का उपयोग करके पता लगाया जा सकता है। कण प्रदूषण में पीएम 2.5 और पीएम 10 शामिल हैं जो बहुत खतरनाक हैं।

PM 2.5 माइक्रोमीटर से कम व्यास वाले कण है, जो मानव बाल के व्यास का लगभग 3% है।

PM 2.5 कण इतने छोटे होते हैं कि उन्हें केवल इलेक्ट्रॉनिक्स की मदद से पता लगाया जा सकता है। वे अपने पीएम 10 समकक्षों की तुलना में बहुत छोटे हैं। पर्यावरण विशेषज्ञों का कहना है कि पीएम 10 को उत्तरदायी पर्टिकुलेट मैटर के रूप में भी जाना जाता है।

इसमें धातु के धूल और जमी हुई सूक्ष्म कण होते हैं। पीएम 10 और 2.5 धूल का निर्माण कचरे और पुआल को जलाकर किया जाता है।

पीएम 2.5 की मात्रा 60 और पीएम 10 की मात्रा 100 होने पर ही सांस लेना सुरक्षित माना जाता है।

पार्टिकुलेट मैटर के स्रोत Sources of particulate matter

यह मानव और प्राकृतिक स्रोतों दोनों के कारण हो सकता है। प्रदूषण के प्राथमिक स्रोतों में ऑटोमोबाइल उत्सर्जन, धूल और खाना पकाने का धुआं शामिल हैं। प्रदूषण के सेकेंडरी स्रोत सल्फर डाइऑक्साइड और नाइट्रोजन ऑक्साइड जैसे रसायनों की जटिल प्रतिक्रिया हो सकते हैं। ये कण हवा में मिल जाते हैं और इसे प्रदूषित करते हैं। इनके अलावा, जंगल की आग, लकड़ी जलाने के स्टोव, खेत के पुआल जलाने, उद्योग का धुआं, निर्माण कार्यों से उत्पन्न धूल आदि वायु प्रदूषण के स्रोत हैं।

PM2.5 और PM10 का स्वास्थ्य पर प्रभाव

PM2.5 और PM10 दोनों कण इतने छोटे हैं कि आप अपनी नग्न आंखों से नहीं देख सकते हैं और वे गैस के रूप में कार्य करते हैं। जब आप सांस लेते हैं, तो ये कण आपके फेफड़ों में पहुंच जाते हैं जिससे खांसी और अस्थमा का दौरा पड़ सकता है। उच्च रक्तचाप, दिल का दौरा, स्ट्रोक और कई गंभीर बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है, जिसके परिणामस्वरूप समय से पहले मौत हो सकती है।

जब पीएम 2.5 का स्तर अधिक होता है, तो धुंध बढ़ जाती है। हवा में कणों का स्तर बढ़ने से सबसे बुरा प्रभाव बच्चों और बुजुर्गों पर पड़ता है।

कुछ अन्य बीमारियाँ जिनका स्वास्थ्य पर प्रभाव पड़ता है:

  • सांस लेने में दिक्कत
  • आंख, नाक और गले में जलन
  • छाती में खिंचाव
  • फेफड़े का ठीक से काम न करना
  • गंभीर श्वसन रोग
  • अनियमित दिल की धड़कन और आदि।

इन कणों से सबसे ज्यादा खतरा किसको होता है?

सभी को सांस लेने के लिए हवा की जरूरत होती है और प्रदूषित हवा को सांस लेने से, वायु प्रदूषण के संपर्क में आते हैं। एक अध्ययन में कहा गया है कि शहरी और औद्योगिक क्षेत्रों में ग्रामीण क्षेत्रों की तुलना में वायु प्रदूषण का अधिक खतरा है। इसके अलावा, वायु प्रदूषण के संपर्क में आने से बच्चों और वरिष्ठ नागरिकों के गंभीर रूप से प्रभावित होने की संभावना है। वायु प्रदूषण से दिल और फेफड़ों की बीमारी वाले लोगों को काफी खतरा हो सकता है।

अमेरिकन हार्ट एसोसिएशन ने भी हृदय स्वास्थ्य और मृत्यु दर पर PM2.5 के प्रभाव के बारे में चेतावनी दी है:

वायु प्रदूषण को कैसे रोकें? How to prevent air pollution?

लकड़ी या कूड़े प्लास्टिक को न जलाएं क्योंकि ये कण प्रदूषण के मुख्य स्रोत हैं।
इनडोर और आउटडोर जगहों पर धूम्रपान न करें. । Also Read:- National Pollution Control Day Kab Manaya jata Hai?

वायु प्रदुषण से कैसे बचाव करें? How to prevent air pollution?

  • वायु प्रदूषण या प्रदूषित हवा की समस्या से बचने के लिए लोगों को मास्क का उपयोग करना चाहिए और अधिक कठिनाई होने पर डॉक्टर से परामर्श लेना चाहिए।
  • प्रदूषण स्तर उच्च होने पर बाहर व्यायाम करने से बचें.
  • अपने इनडोर स्पेस को वायु प्रदूषण से बचाने के लिए आप एयर प्यूरीफायर का भी इस्तेमाल कर सकते हैं। एयर प्यूरीफायरआपके घर के अंदर वायु प्रदूषण की दर को कम कर सकते हैं।
  • अगर वायु प्रदूषण कई दिनों तक रहता है, तो अप्रभावित स्थान पर जाने पर विचार करें।

क्या आप जानते हैं कि हवा में PM2.5 और PM10 का स्तर कैसा होना चाहिए?

पीएम 10 का स्तर 100 माइक्रो ग्राम क्यूबिक मीटर और पीएम 2.5 का स्तर 60 माइक्रो ग्राम क्यूबिक मीटर होना चाहिए।

Buy Face Mask From Flipkart

एक टिप्पणी भेजें

0टिप्पणियाँ
एक टिप्पणी भेजें (0)

अगर आपने इस लेख को पूरा पढ़ा है, तो आपका बहुत-बहुत धन्यवाद!

यदि आपको इस लेख के बारे में कोई संदेह है या आप चाहते हैं कि इसमें सुधार किया जाए, तो आप इसके लिए टिप्पणी लिख सकते हैं।

इस ब्लॉग का उद्देश्य आपको अच्छी जानकारी देना है, और उसके लिए मुझे स्वयं उस जानकारी की वास्तविकता की जाँच करनी होती है। फिर वह जानकारी इस ब्लॉग पर प्रकाशित की जाती है।

आप इसे यहां नहीं पाएंगे। उदाहरण के लिए-

  • 🛑कंटेंट के बीच में गलत कीवर्ड्स का इस्तेमाल।
  • 🛑एक ही बात को बार-बार लिखना।
  • 🛑सामग्री कम लेकिन डींगे अधिक।
  • 🛑पॉपअप के साथ उपयोगकर्ता को परेशान करना।

अगर आपको यह पोस्ट पसंद आया हो या कुछ सीखने को मिला हो तो कृपया इस पोस्ट को सोशल मीडिया फेसबुक, ट्विटर पर शेयर करें। लेख को अंत तक पढ़ने के लिए एक बार फिर से दिल से धन्यवाद!🙏

#buttons=(Accept !) #days=(20)

Our website uses cookies to enhance your experience. Learn More
Accept !