2022 International Daughters Day क्यों मनाया जाता है | 👩Beti Diwas का महत्व 👧Daughters Day कब मनाया जाता है

0

International Daughters Day अंतरराष्ट्रीय बिटिया दिवस क्यों मनाया जाता है? Daughters Day कब मनाया जाता है? जानिए Beti Diwas 2022 का महत्व और कैसे मनाया जाता है. बेटी दिवस पर निबंध. बेटी दिवस लड़कियों को समर्पित है। बेटियां हर क्षेत्र में कंधे से कंधा मिलाकर देश के विकास में योगदान दे रही हैं। इसी को सेलिब्रेट करने के लिए हर साल डॉटर्स डे मनाया जाता है।

toc
Daughters Day Kab Manaya Jata Hai?
Date हर साल सितंबर के आखिरी रविवार को
विवरण Daughters Day मनाने की खास वजह लोगों को बेटियों के प्रति भेदभाव के खिलाफ जागरूकता बढ़ाने और लिंग के बीच समानता को बढ़ावा देने के लिए हर साल बेटी दिवस मनाया जाता हैं।
A little cute little girl is touching a golden star with her hands

भारत में Daughters Day कब है?

बेटियों के लिए आज का दिन बेहद खास है, क्योंकि आज बेटी दिवस है। दुनिया भर में यह दिन अलग-अलग महीनों में मनाया जाता है, लेकिन भारत में यह दिन सितंबर के आखिरी रविवार को मनाया जाता है।

बेटी दिवस : बेटियों के सपनों को दें उड़ान

आज का दिन घर की खुशियों और शान का दिन है यानि बेटी दिवस। बदलते परिवेश में, भारत में बेटियों के प्रति दृष्टिकोण में बहुत बदलाव आया है लेकिन अभी भी भारत को बेटी के महत्व को समझने के लिए एक लंबा रास्ता तय करना है।

सिर्फ इस दिन ही नहीं, बल्कि आज से आप बेटियों की अहमियत को समझें और उनके सपनों को पंख दें. कोशिश करें कि आप उन्हें बेटियों के अस्तित्व का पता लगाने में मदद करें। आइए जानते हैं बेटी दिवस पर कुछ जरूरी बातें।

कैसे शुरू हुआ International Daughters Day मनाने का चलन?

बेटी दिवस कब मनाया जाने लगा, इसका कोई उल्लेख नहीं है। लेकिन विश्व/अंतर्राष्ट्रीय बेटी दिवस सितंबर में मनाया जाता है।

आज भी लड़कियां किसी भी क्षेत्र में पीछे नहीं हैं। वह हर क्षेत्र में आगे बढ़ रही हैं, लेकिन आज भी समाज में कई जगहों पर उन्हें कम करके आंका जाता है। इसे देखते हुए कुछ देशों की सरकार ने मिलकर समानता को बढ़ावा देने के लिए यह कदम उठाया।

ताकि लोग जागरूक हो जाएं और समझें कि हर इंसान बराबर है। भारत में बेटी दिवस मनाने के लिए रविवार को इसलिए चुना गया क्योंकि रविवार को हम सभी के पास काम से छुट्टी होती है ताकि इस दिन माता-पिता अपनी बेटियों के साथ समय बिता सकें और इस दिन को खास बना सकें।

समय के साथ लोगों की सोच में भी धीरे-धीरे बदलाव आ रहा है। धीरे-धीरे लोगों में डॉटर्स डे मनाने का चलन बढ़ता जा रहा है। आज लोग बेटी के जन्म का जश्न मनाने लगे हैं। इस दिन को अपनी प्यारी बेटी के साथ मनाएं और उसे एहसास कराएं कि वह आपके लिए कितनी महत्वपूर्ण है।

बेटी दिवस क्यों मनाया जाता है?

दुनिया में लड़के और लड़कियों के बीच के अंतर को मिटाने के लिए बेटी दिवस मनाया जाता है। लड़कियों के भेदभाव के खिलाफ जागरूकता बढ़ाने और लिंग के बीच समानता को बढ़ावा देने के लिए हर साल सभी देश बेटी दिवस मनाते हैं।

लड़के की जगह लड़की होने से जुड़े कलंक को दूर करने के लिए बेटी दिवस मनाया जाता है। हालांकि भारत में डॉटर्स डे मनाने की एक खास वजह लोगों को बेटियों के प्रति जागरूक करना है।

इस दिन भारतीयों को बेटियों को शिक्षित न करने, जन्म से पहले मारने, बेटियों को घरेलू हिंसा, दहेज और बलात्कार से बचाने के लिए लोगो को जागरूक किया जाता है। बेटियां बोझ नहीं, बल्कि आपके घर का अहम हिस्सा होती हैं।

भारत विकास के पथ पर तेजी से आगे बढ़ रहा है, लेकिन फिर भी कई हिस्सों में बेटियों को लेकर यह भ्रांति है कि बेटियां परिवार पर बोझ की तरह होती हैं। उसके जन्म से ही परिवार को दहेज की चिंता सताने लगती है।

कई बार बेटियों को गर्भ में ही मार दिया जाता है। उन्हें घरेलू हिंसा, दहेज और बलात्कार आदि का शिकार होना पड़ता है। इस दिन की शुरुआत बेटियों को बचाने और उनके प्रति समाज में जागरूकता लाने के लिए की गई थी।

पहले के जमाने में जब लड़का होता था तो खुशी जैसा माहौल होता था और लड़की होने पर मातम जैसा माहौल होता था। हालाँकि, देश के कई हिस्सों में आज भी बेटियों को कलंक समझकर नज़र अंदाज़ किया जाता है और उनका पालन-पोषण ठीक से नहीं किया जाता है।

इसी विचारधारा को मिटाने के लिए बेटी दिवस मनाने की परंपरा शुरू की गई। ताकि, लड़कियों के प्रति इस भेदभाव के खिलाफ जागरूकता बढ़े और लिंग के बीच समानता को बढ़ावा दिया जाए।

बेटी दिवस कैसे मनाया जाता है?

अगर आप किसी बेटी के पिता या अभिभावक हैं तो इस दिन अपनी बेटी को स्पेशल फील कराने के लिए आपको अपनी पसंद के काम करने चाहिए। उसे कोई किताब या उसकी पसंद की कोई चीज गिफ्ट करें। आप चाहें तो घर पर उसकी मनपसंद डिश बना सकते हैं।

उन्हें बताएं कि वे लड़कों से कम नहीं हैं और उन्हें समान रूप से प्यार और सम्मान दिया जाता है। अपनी इच्छाओं पर अंकुश लगाने के बजाय, उन्हें अपने सपनों को आगे बढ़ाने और उनके आत्मविश्वास को बढ़ाने के लिए प्रोत्साहित किया जाता है।

उन्हें इस बात का एहसास कराएं कि आप किस तरह बेटे-बेटियों को समान रूप से प्यार और सम्मान करते हैं, साथ ही उन्हें यह भी बताएं कि वे लड़कों से कम नहीं हैं और आपके जीवन के लिए क्यों जरूरी हैं।

भारत में डॉटर्स डे मनाने की एक खास वजह है। दरअसल, इस दिन के जरिए इसका मकसद बेटियों के प्रति लोगों की सोच को बदलना और समाज में फैली बुराइयों को खत्म कर उन्हें समान अधिकार देना है.

बालिकाओं के लिए स्थानीय स्तर पर कई कानून।

बेटी तथा महिला सशक्तिकरण को बढ़ावा देने के लिए सरकार ने कई कानून भी बनाए हैं ताकि समाज में महिलाओं का शोषण न हो। भारत में महिला सशक्तिकरण के लिए राष्ट्रीय, राज्य और स्थानीय स्तर पर कई कानून, कार्यक्रम, संगठन हैं, जो महिलाओं को जागरूक करते हैं।

आज यह धारणा टूट रही है कि बेटियां किसी भी मामले में बेटों से कमतर होती हैं। सरकार ने कई योजनाओं के माध्यम से लड़कियों की स्थिति में सुधार के लिए भी काम किया है।

'बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ' का नारा लड़कियों के सशक्तिकरण की दिशा में एक कदम है। उनकी शिक्षा, स्वास्थ्य आदि के लिए भी कई कार्यक्रम चलाए जा रहे हैं। इससे लड़कियों के लिंगानुपात में भी सुधार हुआ है।

जिससे बाल विवाह और किशोर गर्भधारण में कमी आई है। वर्ल्ड डॉटर्स डे- सिर्फ भारत में ही नहीं, कई अन्य देशों में भी बेटियों को लेकर ऐसी ही धारणा रही है। इसके प्रति जागरूकता लाने के लिए लगभग हर देश में अलग-अलग दिन बेटी दिवस मनाया जाता है।

बेटी दिवस को बढ़ावा देने के लिए कानून

  • न्यूनतम मजदूरी अधिनियम।
  • हिंदू विवाह अधिनियम।
  • दहेज निषेध अधिनियम।
  • मातृत्व लाभ अधिनियम।
  • गर्भावस्था अधिनियम।
  • कार्यस्थल पर महिलाओं का यौन उत्पीड़न अधिनियम।
  • लिंग परीक्षण तकनीक अधिनियम।
  • बाल विवाह रोकथाम अधिनियम।
  • राष्ट्रीय महिला आयोग अधिनियम।
  • विदेशी विवाह अधिनियम।
  • भारतीय उत्तराधिकार अधिनियम।

सरकार द्वारा महिलाओं के लिए इतने सारे कानून बनाने के बावजूद महिलाओं की स्थिति बहुत दयनीय है। इसका मुख्य कारण महिलाओं की शिक्षा, आर्थिक अधीनता और महिलाओं को अपने अधिकारों के प्रति जागरूक नहीं होना है।

बेटियों के प्रति विशेष प्यार का इजहार करने के लिए डॉटर्स डे मनाया जाता है। न केवल बेटियों के लिए, बल्कि बेटों (Son and Daughter Day, 11 अगस्त), माता के लिए (Mother's Day), पिता के लिए (Father's Day) और यहां तक कि दादा-दादी के लिए (Grandparents' Day) के लिए भी। एक विशेष दिन रखा गया है।

एक टिप्पणी भेजें

0टिप्पणियाँ
एक टिप्पणी भेजें (0)

अगर आपने इस लेख को पूरा पढ़ा है, तो आपका बहुत-बहुत धन्यवाद!

यदि आपको इस लेख के बारे में कोई संदेह है या आप चाहते हैं कि इसमें सुधार किया जाए, तो आप इसके लिए टिप्पणी लिख सकते हैं।

इस ब्लॉग का उद्देश्य आपको अच्छी जानकारी देना है, और उसके लिए मुझे स्वयं उस जानकारी की वास्तविकता की जाँच करनी होती है। फिर वह जानकारी इस ब्लॉग पर प्रकाशित की जाती है।

आप इसे यहां नहीं पाएंगे। उदाहरण के लिए-

  • 🛑कंटेंट के बीच में गलत कीवर्ड्स का इस्तेमाल।
  • 🛑एक ही बात को बार-बार लिखना।
  • 🛑सामग्री कम लेकिन डींगे अधिक।
  • 🛑पॉपअप के साथ उपयोगकर्ता को परेशान करना।

अगर आपको यह पोस्ट पसंद आया हो या कुछ सीखने को मिला हो तो कृपया इस पोस्ट को सोशल मीडिया फेसबुक, ट्विटर पर शेयर करें। लेख को अंत तक पढ़ने के लिए एक बार फिर से दिल से धन्यवाद!🙏

#buttons=(Accept !) #days=(20)

Our website uses cookies to enhance your experience. Learn More
Accept !