Basant Panchami Festival कब है | Saraswati Puja क्यों मनाई जाती है | बसंत पंचमी 2022

नमस्कार दोस्तों, Basant Panchami Festival या Saraswati Puja का त्योहार क्यों मनाया जाता है? बसंत पंचमी कब है. बसंत पंचमी का त्यौहार कैसे मनाया जाता है? बसंत पंचमी का महत्व आखिर क्यों कमल पर विराजती हैं मां सरस्वती? सरस्वती वंदना हिंदी अनुवाद के साथ।

बसंत पंचमी हिंदुओं का प्रमुख त्योहार है और बसंत पचमी को श्री पंचमी और ज्ञान पंचमी के नाम से भी जाना जाता है। यह पर्व माघ मास की शुक्ल पंचमी के दिन मनाया जाता है। इस दिन सरस्वती पूजा भी की जाती है। बसंत पंचमी की पूजा सूर्योदय के बाद और दिन के मध्य भाग से पहले की जाती है।

{tocify} $title={Table of Contents}
Basant Panchami Festival Date कब है ?
Date 2022, 5 फरवरी को
विवरण वसंत पंचमी का पर्व हर साल बड़ी धूमधाम से मनाया जाता है. शास्त्रों के अनुसार यह दिन विद्या की देवी सरस्वती को समर्पित है।
Basant Panchami (Saraswati Puja)

पूरे वर्ष को 6 ऋतुओं में बांटा गया है, जिसमें बसंत ऋतु, ग्रीष्म ऋतु, वर्षा ऋतु, पतझड़ ऋतु, हेमंत ऋतु और शिशिर ऋतु शामिल हैं।

भारतीय कैलेंडर में छह ऋतुएँ होती हैं। वसंत ऋतु को ऋतुओं का राजा कहा जाता है। बसंत पंचमी फूलों के खिलने और नई फसल के आगमन का पर्व है। इस मौसम में खेतों में सरसों की फसल पीले फूल, पेड़ पर नए पत्ते और फूल, चारों ओर हरियाली और ठंड के मौसम सुहावना बना देती है, स्वास्थ्य की दृष्टि से देखा जाए तो यह मौसम बहुत अच्छा होता है। मनुष्यों के साथ-साथ पशु-पक्षियों में भी नई चेतना का संचार होता है.

इस दौरान न तो बहुत अधिक गर्मी होती है और न ही बहुत अधिक ठंड और यही कारण है कि वसंत ऋतु को ऋतुओं का राजा कहा जाता है। एक ऐसा मौसम जब पूरी दुनिया में नए अंकुर पैदा होते हैं और एक नए जीवन का निर्माण होता है।

इस मौसम में खेतों में फसलें उगती हैं और फूल खिलने लगते हैं और हर तरफ खुशी नजर आती है।

जिस प्रकार हम नवजात शिशु की खुशी का जश्न मनाते हैं, उसी तरह हिंदू परंपरा में भी ऋतु की शुरुआत का बहुत महत्व माना जाता है और यह दिन तब और भी महत्वपूर्ण हो जाता है जब इस दिन को सरस्वती पूजा के योग से जोड़ा जाता है।

मां सरस्वती को विद्या की देवी माना जाता है। बसंत पंचमी के दिन देवी सरस्वती माता से ज्ञान, बुद्धि, कला और ज्ञान का वरदान मांगा जाता है।

इस दिन लोगों को पीले वस्त्र धारण करने चाहिए और पीले फूलों से देवी सरस्वती की पूजा करनी चाहिए. पीला रंग वसंत का प्रतीक माना जाता है।

बसंत पंचमी का त्यौहार कैसे मनाया जाता है?

“या देवी सर्वभूतेषु, विद्या रुपेण संस्थिता।
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः”

भारत के अलग-अलग राज्यों में इसे मनाने का तरीका भी अलग है। लेकिन सभी की भावना वाग्देवी से आशीर्वाद पाने की होती है। संगीत की देवी होने के कारण इस दिन सभी कलाकार इस दिन को बड़े उत्साह से मनाते हैं और मां सरस्वती की पूजा करते हैं।

बसंत पंचमी हिंदुओं का एक महत्वपूर्ण त्योहार है, इस दिन विद्या की देवी सरस्वती की पूजा की जाती है। इस दिन महिलाएं पीले रंग के कपड़े पहनती हैं, बसंत पंचमी को पूरे भारत में मां सरस्वती के जन्मदिन के रूप में धूमधाम से मनाया जाता है।

माता सरस्वती जी के इस पर्व में पूजा-पाठ, पंडालों और विद्यालयों में अनेक स्थानों पर यह पर्व मनाया जाता है और भारत में अनेक स्थानों पर बच्चे, माता-पिता अपनी बुद्धि देने की प्रार्थना करते हैं।

हिंदू रीति-रिवाजों में ऐसी मान्यता है कि इस दिन सुबह जल्दी उठकर बेसन के लेप में स्नान करना चाहिए, फिर पीले वस्त्र पहनकर देवी सरस्वती की पूजा करनी चाहिए और पीले व्यंजन का भोग लगाना चाहिए।

चूंकि पीला रंग वसंत ऋतु का प्रतीक है और माँ सरस्वती को भी पसंद है। सरस्वती-पूजा पूरे भारत में सभी शिक्षण संस्थानों में मनाई जाती है, शिक्षण संस्थानों में विधिवत पूजा पूरे रीति-रिवाजों के साथ की जाती है।

इस दिन बच्चे बहुत उत्साहित होते हैं। इसके अलावा जगह-जगह पंडाल बनाकर पूजा भी की जाती है। पंडालों में बड़ी-बड़ी मूर्तियां स्थापित की जाती हैं। घरों से चंदा मांगकर पूरे कार्यक्रम का आयोजन किया जाता है।

छात्रों के लिए यह दिन विशेष रूप से महत्वपूर्ण माना जाता है। इस दिन वे अपनी पुस्तकों की पूजा करते हैं और मां सरस्वती से विद्या का आशीर्वाद मांगते हैं।

बसंत पंचमी क्यों मनाई जाती है?

शास्त्रों और पुराणों के अनुसार बसंत पंचमी और सरस्वती पूजा को लेकर बहुत ही रोचक कथा है, कथा इस प्रकार है। बसंत पंचमी के ऐतिहासिक महत्व के बारे में यह माना जाता है कि ब्रह्मांड के निर्माता भगवान ब्रह्मा ने प्राणियों और मनुष्यों की रचना की और जब ब्रह्मा जी ने ब्रह्मांड की रचना की और उस दुनिया में देखा, तो उन्हें अपने चारों ओर एक सुनसान वातावरण दिखाई दिया।

पूरी तरह से शांत। मानो किसी के पास आवाज ही न हो। इतना सब करने के बाद भी ब्रह्मा जी निराश, दुखी और संतुष्ट नहीं हुए। तब ब्रह्मा जी भगवान विष्णु जी से आज्ञा लेकर अपने कमंडल से पृथ्वी पर जल छिड़कते हैं।

कमंडल से पृथ्वी पर गिरता हुआ जल पृथ्वी पर कंपन करने लगता है और एक सुंदर चार भुजा वाली (चार भुजाओं वाली) स्त्री अद्भुत शक्ति के रूप में प्रकट होती है।

उस देवी के एक हाथ में वीणा, दूसरे हाथ में पुस्तक, तीसरे हाथ में वराह मुद्रा और चौथे हाँथ में माला है। ब्रह्मा जी उस स्त्री से वीणा बजाने का अनुरोध करते हैं। देवी की वीणा बजाने से संसार के सभी जीवों को वाणी मिलती है।

उसी क्षण से देवी को "सरस्वती" कहा जाने लगा। उस देवी ने वाणी के साथ-साथ ज्ञान और बुद्धि दी थी, इसलिए बसंत पंचमी के दिन घर में सरस्वती की पूजा की जाती है।

यानी दूसरे शब्दों में बसंत पंचमी का दूसरा नाम "सरस्वती पूजा" भी है। देवी सरस्वती को बागेश्वरी, भगवती, शारदा, वीणावादनी और वाग्देवी सहित कई नामों से पूजा जाता है।

जानिए बसंत पंचमी का महत्व

बसंत ऋतु के आगमन के साथ ही चारों ओर फूलों की हरियाली छा जाती है, शास्त्रों के अनुसार बसंत पंचमी को ऋषि पंचमी भी कहा जाता है। बसंत पंचमी के आते ही प्रकृति का हर कण खिल उठता है। पशु-पक्षी सहित मनुष्य उल्लास से ओतप्रोत हैं।

हिंदू धर्म में इस पर्व का बहुत अधिक महत्व है। यह वसंत ऋतु की शुरुआत का प्रतीक है। बसंत पंचमी को विवाह बंधन में बंधने के लिए भी बहुत भाग्यशाली माना जाता है, साथ ही इस दिन को गृह प्रवेश से नए कार्यों की शुरुआत के लिए भी शुभ माना जाता है।

इस दिन से कोई नया काम शुरू किया जा सकता है। इस दिन कई लोगों के लिए अपने छोटे बच्चों को पहली बार किताब और कलम रखने का भी विधान है।

यह भी कहा जाता है कि अगर बच्चे को शिक्षा में किसी भी तरह की बाधा आती है, तो इस दिन विशेष पूजा करने से उसे ठीक किया जा सकता है।

इस पर्व पर लोग पवित्र नदियों आदि में स्नान करते हैं। इसके साथ ही हाथी बसंत मेला आदि का भी आयोजन किया जाता है।

बसंत पंचमी का दिन बच्चों की शिक्षा शुरू करने के लिए शुभ माना जाता है।

आखिर क्यों कमल पर विराजती हैं मां सरस्वती?

पुराण में वर्णित मां सरस्वती का स्वरूप प्रेरणादायक है। उनके चार हाथ हैं, जो वीणा, पुस्तक और अक्षरमाला हैं। उनका वाहन हंस है। उन्होंने श्वेत वस्त्र धारण किया हुआ है, जो हमें सत्य, अहिंसा, क्षमा, सहनशीलता, करुणा, प्रेम और परोपकार आदि गुणों को बढ़ाने की प्रेरणा देता है।

अधिकांश चित्रों और पुराणों में देवी सरस्वती को कमल पर विराजमान दिखाया गया है। कीचड़ में खिले कमल को मिट्टी छू नहीं सकती। इसलिए कमल पर बैठी मां सरस्वती हमें यह संदेश देना चाहती हैं कि हमें प्रदूषित वातावरण में कितना भी रहना पड़े, लेकिन हमें अपने आप को इस तरह रखना चाहिए कि बुराई हम पर असर न कर सके।

सरस्वती वंदना हिंदी अनुवाद के साथ।

असतो मा सदगमय ॥ तमसो मा ज्योतिर्गमय ॥ मृत्योर्मामृतम् गमय ॥ हमको असत्य से सत्य की ओर ले चलो । अंधकार से प्रकाश की ओर ले चलो ।। मृत्यु से अमरता की ओर ले चलो ॥

या कुन्देन्दुतुषारहारधवला या शुभ्रवस्त्रावृता।
या वीणावरदण्डमण्डितकरा या श्वेतपद्मासना॥
या ब्रह्माच्युत शंकरप्रभृतिभिर्देवैः सदा वन्दिता।
सा मां पातु सरस्वती भगवती निःशेषजाड्यापहा॥1॥

अर्थ : जो विद्या की देवी भगवती सरस्वती कुन्द के फूल, चंद्रमा, हिमराशि और मोती के हार की तरह धवल वर्ण की हैं और जो श्वेत वस्त्र धारण करती हैं, जिनके हाथ में वीणा-दण्ड शोभायमान है, जिन्होंने श्वेत कमलों पर आसन ग्रहण किया है तथा ब्रह्मा, विष्णु एवं शंकर आदि देवताओं द्वारा जो सदा पूजित हैं, वही संपूर्ण जड़ता और अज्ञान को दूर कर देने वाली मां सरस्वती हमारी रक्षा करें। ..

शुक्लां ब्रह्मविचार सार परमाम् आद्यां जगद्व्यापिनीम्।
वीणा-पुस्तक-धारिणीमभयदां जाड्यान्धकारापहाम्‌॥
हस्ते स्फटिकमालिकां विदधतीम् पद्मासने संस्थिताम्‌।
वन्दे तां परमेश्वरीं भगवतीं बुद्धिप्रदां शारदाम्‌॥2॥

अर्थ : जिनका रूप श्वेत है, जो ब्रह्मविचार की परम तत्व हैं, जो सब संसार में फैले रही हैं, जो हाथों में वीणा और पुस्तक धारण किये रहती हैं, अभय देती हैं, मूर्खतारूपी अन्धकार को दूर करती हैं, हाथ में स्फटिकमणि की माला लिए रहती हैं, कमल के आसन पर विराजमान होती हैं और बुद्धि देनेवाली हैं, उन आद्या परमेश्वरी भगवती सरस्वती की मैं वन्दना करता हूँ ।

सरस्वती नमस्तुभ्यं वरदे कामरूपिणी, विद्यारम्भं करिष्यामि सिद्धिर्भवतु में सदा।
हे सबकी कामना पूर्ण करने वाली माता सरस्वती, आपको नमस्कार करता हूँ। मैं अपनी विद्या ग्रहण करना आरम्भ कर रहा हूँ , मुझे इस कार्य में सिद्धि मिले।

'या देवी सर्वभूतेशु शक्ति-रूपेण संस्था' के अर्थ।

अक्टूबर 2020 में बंगाल ( Vijayadashami ) दुर्गा पूजा कार्यक्रम में वर्चुअल रूप से शामिल हुए थे। कार्यक्रम में अपने संबोधन के दौरान पीएम मोदी ने शास्त्रों का जिक्र कर मंत्र 'या देवी सर्वभूतेशु शक्ति-रूपेण संस्था' के बारे में बताया। आइए जानते हैं क्या है इस पूरे देवी मंत्र का अर्थ।

'या देवी सर्वभूतेषु शांति-रूपेण संस्थिता। नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः॥'
अर्थात जो देवी समस्त प्राणियों में शान्ति के रूप में स्थित हैं, उनको नमस्कार, नमस्कार, बारंबार नमस्कार है.

'या देवी सर्वभूतेषु बुद्धि-रूपेण संस्थिता। नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः॥'
यानी जो देवी सभी प्राणियों में बुद्धि के रूप में स्थित हैं, उनको नमस्कार, नमस्कार, बारंबार नमस्कार है। आपको मेरा बार-बार प्रणाम है.'

'या देवी सर्वभूतेषु विद्या-रूपेण संस्थिता। नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः॥'
यानी जो देवी सब प्राणियों में विद्या के रूप में विराजमान हैं, उनको नमस्कार, नमस्कार, बारंबार नमस्कार है.

'या देवी सर्वभूतेषु श्रद्धा-रूपेण संस्थिता। नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः॥
जो देवी समस्त प्राणियों में श्रद्धा, आदर, सम्मान के रूप में स्थित हैं, उनको नमस्कार, नमस्कार, बारंबार नमस्कार है। मैं आपको बारंबार प्रणाम करता हूं.

'या देवी सर्वभूतेषु शक्ति-रूपेण संस्थिता। नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः॥'
यानी जो देवी सब प्राणियों में शक्ति रूप में स्थित हैं, उनको नमस्कार, नमस्कार, बारंबार नमस्कार है.

'या देवी सर्वभूतेषु मातृ-रूपेण संस्थिता। नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः॥'
अर्थात जो देवी सभी प्राणियों में माता के रूप में स्थित हैं, उनको नमस्कार, नमस्कार, बारंबार नमस्कार है.

'या देवी सर्वभूतेषु चेतनेत्यभि-धीयते। नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः॥'
इसका अर्थ है कि जो देवी सब प्राणियों में चेतना कहलाती हैं, उनको बारंबार नमस्कार है.

'या देवी सर्वभूतेषू कान्ति रूपेण संस्थिता। नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः'
यानी जो देवी सभी प्राणियों में तेज, दिव्यज्योति, ऊर्जा रूप में विद्यमान हैं, उनको नमस्कार, नमस्कार, बारंबार नमस्कार है.

'या देवी सर्वभूतेषू जाति रूपेण संस्थिता। नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः॥'
इसका अभिप्राय है कि जाति- जन्म, सभी वस्तुओं का मूल कारण जो देवी सभी प्राणियों का मूल कारण है, उनको नमस्कार, नमस्कार, बारंबार नमस्कार है.'

'या देवी सर्वभूतेषु दया-रूपेण संस्थिता। नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः॥'
मतलब जो देवी सब प्राणियों में दया के रूप में विद्यमान हैं, उनको नमस्कार, नमस्कार, बारंबार नमस्कार है.

'या देवी सर्वभूतेषु भक्ति-रूपेण संस्थिता। नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः॥'
जो देवी सब प्राणियों में भक्ति, निष्ठा, अनुराग के रूप में स्थित हैं, उनको नमस्कार, नमस्कार, बारंबार नमस्कार है. आपको मेरा बार-बार प्रणाम है.

'या देवी सर्वभूतेषु लक्ष्मी-रूपेण संस्थिता। नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः॥'
जो देवी सब प्राणियों में लक्ष्मी, वैभव के रूप में स्थित हैं, उनको नमस्कार, नमस्कार, बारंबार नमस्कार है.

'या देवी सर्वभूतेषु तृष्णा-रूपेण संस्थिता। नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः॥
अर्थात जो देवी सभी प्राणियों में चाहत के रूप में स्थित हैं, उनको नमस्कार, नमस्कार, बारंबार नमस्कार है.

'या देवी सर्वभूतेषु क्षुधा-रूपेण संस्थिता। नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः॥'
अर्थात जो देवी समस्त प्राणियों में भूख के रूप में विराजमान हैं, उनको नमस्कार, नमस्कार, बारंबार नमस्कार है.

'या देवी सर्वभूतेषु तुष्टि-रूपेण संस्थिता। नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः॥'
जो देवी सब प्राणियों में सन्तुष्टि के रूप में विराजमान हैं, उनको नमस्कार, नमस्कार, बारंबार नमस्कार है.

'या देवी सर्वभूतेषु निद्रा-रूपेण संस्थिता। नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः॥'
यानी जो देवी सभी प्राणियों में आराम, नींद के रूप में विराजमान हैं, उनको नमस्कार, नमस्कार, बारंबार नमस्कार है.

'सर्वमंगल मांगल्ये शिवे सर्वार्थ साधिके। शरण्ये त्र्यंबके गौरी नारायणि नमोस्तुते॥'
अर्थात हे नारायणी! तुम सब प्रकार का मंगल प्रदान करने वाली मंगल मयी हो। कल्याण दायिनी शिवा हो। सब पुरुषार्थो को (धर्म, अर्थ, काम, मोक्ष को) सिद्ध करने वाली हो. शरणागत वत्सला, तीन नेत्रों वाली एवं गौरी हो. हे नारायणी, तुम्हें नमस्कार है.

Editor

नमस्कार!🙏 मेरा नाम सरोज कुमार (वर्मा) है। और मुझे यात्रा करना, दूसरी जगह की संस्कृति को जानना पसंद है। इसके साथ ही मुझे ब्लॉग लिखना, और उस जानकारी को ब्लॉग के माध्यम से दूसरों के साथ साझा करना भी पसंद है।

एक टिप्पणी भेजें

और नया पुराने

अगर आपने इस लेख को पूरा पढ़ा है, तो आपका बहुत-बहुत धन्यवाद!

यदि आपको इस लेख के बारे में कोई संदेह है या आप चाहते हैं कि इसमें सुधार किया जाए, तो आप इसके लिए टिप्पणी लिख सकते हैं।

इस ब्लॉग का उद्देश्य आपको अच्छी जानकारी देना है, और उसके लिए मुझे स्वयं उस जानकारी की वास्तविकता की जाँच करनी होती है। फिर वह जानकारी इस ब्लॉग पर प्रकाशित की जाती है।

आप इसे यहां नहीं पाएंगे। उदाहरण के लिए-

  • 🛑कंटेंट के बीच में गलत कीवर्ड्स का इस्तेमाल।
  • 🛑एक ही बात को बार-बार लिखना।
  • 🛑सामग्री कम लेकिन डींगे अधिक।
  • 🛑पॉपअप के साथ उपयोगकर्ता को परेशान करना।

अगर आपको यह पोस्ट पसंद आया हो या कुछ सीखने को मिला हो तो कृपया इस पोस्ट को सोशल मीडिया फेसबुक, ट्विटर पर शेयर करें। लेख को अंत तक पढ़ने के लिए एक बार फिर से दिल से धन्यवाद!🙏