Chaitra Navratri Festival | चैत्र नवरात्रि पूजा कब से शुरू है ? 2022 नव रात्रि के नौ दिन पूजा की जाती है

Chaitra Navratri Festival के दिन, दुर्गा के विभिन्न रूपों की पूजा की जाती है। प्रत्येक देवी अपने गुणात्मक स्वभाव के कारण भक्तों पर अपना आशीर्वाद बनाए रखती हैं। साथ ही यह उनके भीतर के अंधकार को मिटा आंतरिक प्रकाश को जागृत करता है।

नवरात्रि में मां दुर्गा के इन नौ रूपों की पूजा की जाती है:

  1. पहले दिन मां शैलपुत्री
  2. दूसरे दिन मां ब्रह्मचारिणी
  3. तीसरे दिन मां चंद्रघंटा
  4. चौथे दिन मां कूष्मांडा
  5. पांचवें दिन स्कंदमाता
  6. छठे दिन मां केत्यायनी
  7. सातवें दिन मां कालरात्रि
  8. आठवें दिन मां महागौरी की पूजा और
  9. नौवें दिन मां सिद्धिदात्री की पूजा की जाती है।

हिंदू धर्म में चैत्र नवरात्रि का विशेष महत्व माना जाता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि इसी दिन से हिंदू नववर्ष यानी नया संवत्सर भी शुरू होता है।

होली के बाद, चैत्र नवरात्रि शुरू होती है और इस अवधि के दौरान मां दुर्गा की पूजा की जाती है।

रामनवमी का पवित्र त्योहार भी चैत्र नवरात्रि के समय आता है। भगवान राम का जन्म चैत्र नवमी के दिन हुआ था, इसलिए इसे राम नवमी कहा जाता है।

Chaitra Navratri कब से शुरू है ? 2022
Festival Ka Naam Date Day
Chaitra Navratri Festival 2 April, 2022 Saturday
Chaitra Navratri Festival | चैत्र नवरात्रि पूजा 2022

नवरात्रि के नौ दिनों में क्या करें?

नवरात्रि के सभी दिनों में सच्चे मन से माँ दुर्गा की आराधना करें। यदि संभव हो तो नवरात्रि के दौरान हर दिन मंदिर जाकर माँ की पूजा करें। नवरात्रि में नौ दिनों तक उपवास रखना धार्मिक दृष्टि से शुभ माना जाता है और साथ ही यह स्वास्थ्य के लिए भी लाभदायक है।

Chaitra Navratri कब शुरू होती है ?

माघ नवरात्रि (Sharadiya Navratri) के बाद, चैत्र नवरात्रि का त्योहार मनाया जाता है। यह नवरात्रि के लिए बहुत खास माना जाता है। इसकी धार्मिक मान्यता भी उच्च है।

Chaitra Navratri कब चढ़ेंगे?

धार्मिक रूप से इसकी मान्यता बहुत अधिक है। हिंदू कैलेंडर के अनुसार, इस वर्ष, 2022 में, चैत्र नवरात्रि 2 अप्रैल से शुरू होने जा रहे हैं और यह 11 अप्रैल को समाप्त होगा।

चैत्र नवरात्रि में किसकी पूजा की जाती है?

नवरात्रि के दौरान, नौ दिनों तक माँ दुर्गा के विभिन्न रूपों की पूजा की जाती है।

2022 में Chaitra नवरात्रि कब है?

नवरात्रि का त्योहार 2 अप्रैल को प्रतिपदा तिथि से शुरू हुआ है। नवमी पर, नवरात्रि का त्योहार कन्या पूजन और हवन के साथ संपन्न होता है। 11 अप्रैल नवरात्रि व्रत का पारण होगा.

नवरात्रि में शारीरिक संबंध बनाने से क्या होता है?

धार्मिक शास्त्रों के अनुसार, नवरात्रि के उपवास के दौरान शारीरिक संबंध नहीं किया जाता है। इस समय ब्रह्मचर्य का अभ्यास करना चाहिए।

नवरात्रि के दौरान मांस, मछली और शराब के सेवन से बचना चाहिए। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, ऐसा करना अशुभ माना जाता है।

'इस लेख में निहित किसी भी जानकारी / सामग्री / गणना की सटीकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। यह जानकारी आपको विभिन्न माध्यमों / ज्योतिषियों / पंचांगों / उपदेशों / मान्यताओं / शास्त्रों से एकत्रित करके भेजी गई है। हमारा उद्देश्य केवल जानकारी देना है.

Editor

नमस्कार!🙏 मेरा नाम सरोज कुमार (वर्मा) है। और मुझे यात्रा करना, दूसरी जगह की संस्कृति को जानना पसंद है। इसके साथ ही मुझे ब्लॉग लिखना, और उस जानकारी को ब्लॉग के माध्यम से दूसरों के साथ साझा करना भी पसंद है।

एक टिप्पणी भेजें

और नया पुराने

अगर आपने इस लेख को पूरा पढ़ा है, तो आपका बहुत-बहुत धन्यवाद!

यदि आपको इस लेख के बारे में कोई संदेह है या आप चाहते हैं कि इसमें सुधार किया जाए, तो आप इसके लिए टिप्पणी लिख सकते हैं।

इस ब्लॉग का उद्देश्य आपको अच्छी जानकारी देना है, और उसके लिए मुझे स्वयं उस जानकारी की वास्तविकता की जाँच करनी होती है। फिर वह जानकारी इस ब्लॉग पर प्रकाशित की जाती है।

आप इसे यहां नहीं पाएंगे। उदाहरण के लिए-

  • 🛑कंटेंट के बीच में गलत कीवर्ड्स का इस्तेमाल।
  • 🛑एक ही बात को बार-बार लिखना।
  • 🛑सामग्री कम लेकिन डींगे अधिक।
  • 🛑पॉपअप के साथ उपयोगकर्ता को परेशान करना।

अगर आपको यह पोस्ट पसंद आया हो या कुछ सीखने को मिला हो तो कृपया इस पोस्ट को सोशल मीडिया फेसबुक, ट्विटर पर शेयर करें। लेख को अंत तक पढ़ने के लिए एक बार फिर से दिल से धन्यवाद!🙏